Loading...

दुनिया के इस अनोखे गांव में मौजूद है फाइव स्टार होटल जैसी शानदार सुविधाएं, लेकिन यहाँ परिंदा भी नहीं मरता पर

0 3

दुनिया भर में ऐसी जगह हैं जिस्म के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। कुछ ऐसी ही जगह है उत्तर कोरिया का एक गांव खूबसूरती के मामले में इस गांव का कोई तोड़ नहीं है। लेकिन यहां पर कोई भी रहने वाला नहीं है हालांकि इस गांव में आलीशान इमारतें साफ-सुथरी सड़कें पानी की टंकी बिजली स्पीडलाइट समेत कई सारी सुविधाएं दी गई है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि यह गांव साउथ कोरिया और नॉर्थ कोरिया के मिलिट्री रहित जोन में स्थित है। साल 1953 में कोरियन वॉर के बाद हुए युद्ध विराम के दौरान इस गांव को बनाया गया था। कई लोग इस गांव को प्रोपगैंडा विलेज कहते हैं। लोगों का ये मानना है कि इस गांव का निर्माण इसलिए कराया गया ताकि उथ कोरिया में रह रहे लोगों को ऐसा लगे कि यहां के लोगों की लाइफ काफी लग्जरी है।

इस गांव का किस्सा काफी ज्यादा पुराना है और रोचक है दरअसल उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच जब कोरिया युद्ध की के अनौपचारिक समाप्ति हुई थी। तो उस समय गांव का निर्माण हुआ था 3 साल तक चले इस युद्ध में 30 लाख से ज्यादा लोग मारे गए थे। इस दौरान देशों को अलग अलग करने वाले क्षेत्र को डिमिलिट्राइज एरिया के रुप में जाना जाता है। युद्ध के दौरान दोनों देशों ने यहां से अपने नागरिकों को हटा दिया था।

युद्ध विराम की घोषणा के समय यह तय किया गया कि दोनों देश सीमा पर सिर्फ एक ही गांव को बरकरार रख सकते हैं या फिर नया गांव बसा सकते हैं। ऐसे में दक्षिण कोरिया ने अपनी सीमा में मौजूद फ्रीडम विलेज के रूप में जाना जाने वाला यह बरकरार रखा है। यहां पर करीब 226 लोग रहते हैं। इतना ही नहीं इस गांव के लोगों को विशेष पहचान पत्र भी दिया गया और रात 11:00 बजे के बाद यहां पर कर्फ्यू लग जाता है।

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.