Loading...

त्यौहार पर शुरू करें मात्र 1 लाख रुपए से यह बिजनेस और कमाए हर महीने 40 हजार रुपए से भी ज्यादा! जानें पूरा प्लान..

0 14

त्योहार का सीजन आ चुका है ऐसे में हर तरह की ही चीज की डिमांड में तेजी देखी जा सकती है। त्योहार के सीजन में लोगों की डिमांड काफी बदल चुकी है। दिवाली आने में अब बस एक महीना ही बचा है और यह इस महीने में आज कमाई की सोच रहे हैं तो हम आपके लिए एक शानदार दृश्य लेकर आए हैं।

सरकार द्वारा चलाई गई मुद्रा लोन योजना नए और छोटे कारोबारियों के लिए काफी लाभदायक साबित होती है। सरकार अपनी महत्वाकांक्षी मुद्रा स्कीम के माध्यम से लोगों को कारोबारी बनाने में काफी मदद करता नजर आ रहा है। इस स्कीम के अंतर्गत साल 2019 से अब तक 10 लाख करोड़ से भी ज्यादा का लोन दिया जा चुका है।
इस स्कीम के तहत कर लगभग 20 करोड़ खाते खोले जा चुके हैं। इस स्कीम के माध्यम से छोटे कारोबारी सरकार से 10 लाख रुपए तक का लोन प्राप्त कर सकते हैं  यदि आप अपनी प्रोजेक्ट रिपोर्ट दिखाकर किसी कारोबार के लिए योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो यह योजना आपके लिए काफी लाभदायक होगी, क्योंकि इस योजना के अंतर्गत कारोबारी को पूरे खर्चे का 80% लोन के रूप में दिया जाता है। ऐसे में आज हम आपको मुद्रा लोन के साथ बेकरी प्रोडक्ट मैन्युफैक्चरिंग यूनिट के बारे में जानकारी देने वाले हैं।
Loading...
आपको बता दें कि यह जो समय अभी चल रहा है उसमें बेकरी प्रोडक्ट की हर सीजन में ही डिमांड बनी रहती है। बैटरी इंडस्ट्रीज फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज के इंडस्ट्रियल इक्विटी मैं एक बड़ा योगदान करती है। मौजूदा समय में बेकरी इंडस्ट्री के भीतर कई प्रकार के प्रोडक्ट हैं जैसे कि बिस्कुट, ब्रेड, केक, चिप्स इत्यादि इन प्रोडक्ट की डिमांड शहरों में ही नहीं, टाउन एरिया और गांव में भी काफी देखी जा रही है। इन प्रोडक्ट का होम कंजक्शन भी बढ़ चुका है। अब फूड टेक्नोलॉजी में जिस तरह के बदलाव देखे जा रहे हैं। उस हिसाब से इस बिजनेस की डिमांड भी काफी तेजी से बढ़ रही है।
देखा जाए तो मार्केट में एक अच्छी प्रतियोगिता भी इस व्यवसाय को लेकर बनी हुई है। इनका मार्केट पोटेंशियल काफी अच्छा है और क्वालिटी कंट्रोल भी बेहद आसान है। इस प्रोजेक्ट की बात की जाए तो महीना री पर आने वाला खर्चा 350 लाख रुपए तक होगा। वहीं वर्किंग कैपिटल को अलग किया जाए तो 1.86 लाख रुपए की आवश्यकता आपको होगी। यदि आपके पास खुद का वर्किंग प्लेस है तो उस पर कारोबार किया जा सकता है। या लैंड को किराए पर भी लेकर अपना काम चालू कर सकते हैं। वर्किंग कैपिटल में 25 दिनों के लिए रो मटेरियल फिनिश्ड गुड्स का चौक वर्किंग एक्सपेंस और रिसिवेबल आदि शामिल किए जाते हैं।
वहीं, इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए फाइनेंस की बात की जाए तो मुद्रा स्कीम के अंतर्गत यदि आप इस बिजनेस को शुरू करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको बिजनेस के 100% खर्च में से 80% तक का लोन आपको प्राप्त होगा। सरकार ने जो प्रोजेक्ट रिपोर्ट दी है, उसके मुताबिक, इसमें वर्किंग कैपिटल लोन 1.49 लाख और टर्म लोन 2.96 लाख रुपए का होगा। इसका मतलब यह है कि आपको अपने पास से केवल एक लाख रुपए की राशि निवेश करनी होगी।
यदि आप भी इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आवेदन करने के लिए काफी आसान प्रक्रिया को फॉलो करना होगा। देश में 27 सरकारी बैंक, निजी क्षेत्र के 17 बैंक, 31 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, सहकारी बैंक 4, 36 माइक्रो फाइनेंस संस्थान और 25 गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियां ऐसी है जो मुद्रा लोन बांटने के लिए अधिकृत हैं।
वहीं इस स्कीम के तहत आवेदन करने के लिए आपके पास जो जरूरी दस्तावेज होने चाहिए, वह हैं 2 फोटो, आईडी प्रूफ, निवास संबंधी प्रमाणपत्र, आरक्षित वर्ग का सर्टिफिकेट यदि आप अनुसूचित जाति में है/जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग आदि है तो उसके लिए आपको प्रमाण पत्र की फोटो कॉपी लगानी होगी। कारोबार की जानकारी होना भी आवश्यक है। अपने कारोबार से संबंधित लाइसेंस रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट या अन्य कोई दस्तावेज भी जमा करना होगा। यह इस बात के लिए प्रमाण पत्र होगा कि आप अपने बिजनेस के स्वयं ही मालिक है।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.