Loading...

कोरोना मरीजों पर नया शोध, फेफड़ों के अलावा दिमाग की नसों को भी ध्वस्त कर रहा है कोरोना

0 5

कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मरीजों की संख्या 75 लाख से ज्यादा बार हो चुकी है। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे के अंदर 46,791 नए मामले सामने आए हैं। इस वक्त देश भर में कुल कोरोना संक्रमण के मामले 75,97,064 हो चुके हैं। इस बीच कोरोना वायरस संक्रमण के मरीजों को लेकर एक नया खुलासा हुआ है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक कोरोनावायरस संक्रमण फेफड़ों के अलावा शरीर के अन्य को भी नुकसान पहुंचा रहा है। दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में पहला ऐसा मामला दर्ज किया गया है। जिसमें कोरोनावायरस के कारण मस्तिष्क की नसों को भी नुकसान पहुंच रहा है कि भारत में पहला मामला सामने आया है। जो 11 साल की बच्ची के साथ हुआ है डॉक्टरों के मुताबिक कोरोनावायरस होने के बाद से दिमाग की नसों को नुकसान होने की वजह से उस बच्ची को धुंधला दिखाई देने लगा है।

इस संबंध में इनके चाइल्ड न्यूरोलॉजी विभाग के डॉक्टर बच्चे के स्वास्थ्य पर एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं। इसे जल्‍द ही प्रकाशित किया जाएगा। डॉक्‍टरों के अनुसार, ‘हमने 11 साल की बच्‍ची के मस्तिष्क में कोरोनावायरस संक्रमण के कारण एक्‍यूट डिमालिनेटिंग सिंड्रोम होने का मामला पाया है बच्चों के उम्र समूह में यह ऐसा पहला मामला है।

बता दें कि मस्तिष्क की जिस नस को नुकसान पहुंचा है। वो माइलिन नामक प्रोटेक्टिव लेयर (बचाव परत) से घिरी होती है। यह मस्तिक से शरीर के दूसरे हिस्सों में संदेश पहुंचाने में मदद कर दिया कोरोनावायरस के कारण एडियस होने से पहले नष्ट हो रही है जिसके कारण सिग्नल पहुंचने में दिक्कतें हो रही हैं।

Loading...

आपको बता दें कि कोरोनावायरस संक्रमण से ठीक होने के बाद भी मरीजों में सांस लेने की परेशानी थकान आना चक्कर आना हल्का बुखार जोड़ों में दर्द जैसी समस्या सामने आ रही हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.