Loading...

अगर पित्त की थैली की पथरी ने कर द‍िया है आपका बुरा हाल, तो आज ही अपनाएं ये साधारण से देसी नुस्खें

0 196

आज के समय में खराब लाइफस्टाइल के कारण अपज एसिडिटी पेट में भारीपन खाने के बाद पेट फूलना जैसी समस्याएं होना बेहद आम बात है आमतौर पर इन समस्याओं को हम सामान्य मान लेते हैं। लेकिन अगर यह समस्या लगातार हो रही है तो आप को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह पित्त की थैली में स्टोन की समस्या भी हो सकती है। लापरवाही करने पर समस्या काफी ज्यादा बढ़ जाती है और जानलेवा भी साबित हो जाती है। तो चलिए आज हम आपको इसके बारे में बताते हैं।

पित्त की पथरी के कारणों का अभी तक कोई भी स्पष्ट प्रमाण सामने नहीं आया है। सामान्यता आज के खराब खान-पान के कारण इसका यही महत्वपूर्ण कारण माना गया है। कुछ विशेषज्ञ मोटापा के बाद सर्जरी और कुछ विशेष दवाओं को भी इसका कारण मानते हैं।

हालाकिं गॉल स्टोन के लक्षण भी सामने नहीं आते। आम तौर पर इस समस्या से जूझ रहे लोगों का एसिडिटी पेट में भारीपन जैसी समस्या रहती है। लोग इन लक्षणों को देखकर नहीं समझ पाते हैं। क्यों नहीं आखिर यह पथरी की समस्या हो सकती है लेकिन जब समस्या बढ़ जाती है तो लोगों के पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द होना शुरू हो जाता है। अधिक मात्रा में गैस की फर्मेशन हो सकता है, उल्‍टी व पसीना आना जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं। इसलिए लंबे समय तक पेट में बनने वाली एसिडिटी व गैस को सामान्य न लें। फौरन डॉक्टर को दिखाएं।

गाल ब्लेंडर का एक ही इलाज है और वह सर्जरी एक किडनी स्टोन की तरह दवाओं से नहीं निकलता। हालाकिं गॉल ब्लेंडर बहुत ज्यादा दर्द देने वाली परेशानी नहीं होता। इसलिए कई लोग लंबे समय तक इसे पड़ा रहने देते हैं। जिसके चलते उन्हें कई तरह की गंभीर बीमारियां भी हो जाती है।

Loading...

इस समस्या से बचने के लिए जंक फ़ूड अथवा अधिक चिकनाई युक्त वाला भोजन नहीं करना चाहिए। बाहर का जंग फूड बिल्कुल अवॉइड करें फाइबर युक्त डाइट लेनी चाहिए। रात को खाना समय से खाएं और थोड़ी देर खाने के बाद टहलने जरूर जाएं ऐसा करने से आपको इस समस्या से काफी हद तक आराम मिलेगा।

हालांकि इन सब से बचने के लिए आप पुदीना के पत्ते का रस निकालें उसे गर्म पानी के साथ में लें। या पुदीने के पत्ते को ही गर्म पानी के साथ उबालने पानी में एक चम्मच शहद मिलाएं और पी जाए। यह आपको बहुत राहत पहुंचाएगा पुदीने में मौजूद औषधीय गुण आपके पाचन शक्ति की परेशानी को भी दूर करेगी वह पित्त की थैली में मौजूद पक्षी पर भी प्रभावी रूप से काम करेगी।

फोलिक एसिड से भरपूर सेब का जूस यानी कि सेब का सिरका पित्त की पथरी को गलाने का एक अचूक असरदार उपाय होता है। रोज इसका सेवन करने से पथरी अपने आप खत्म हो जाती है। इसके अलावा नाशपाती के जूस का भी प्रयोग कर सकते हैं इसमें भी इसके जैसे ही गुण पाए जाते हैं नाशपाती में एक्टिव तत्व पाया जाता है यह लीवर में कॉलेज टोंक बनने से जमने से रोकता है। दवाओं से नहीं निकलता।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.