Loading...

अर्श से फर्श ; कभी लाल बत्ती की गाड़ी में घूमती थी ये महिला, आज के समय में चरा रही है बकरियां

0 77

कहते हैं कि समय ऐसे ही चीज होती है। जो राजा को रंक और रंक को राजा बना सकता है। और वक्त कब पलट जाए इसका किसी को पता नहीं होता ऐसा ही कुछ हुआ है मध्य प्रदेश शिवपुर में रहने वाली आदिवासी जूली के साथ कभी लाल बत्ती वाली बड़ी-बड़ी गाड़ियों में घूमने वाली जूली मध्य प्रदेश शिवपुरी की पूर्व अध्यक्ष रह चुकी है। लेकिन आज वह गुमनामी की जिंदगी जी रही है और बकरियां चरा कर अपने परिवार का गुजारा कर रही है।

जूली पहले मजदूरी  किया करती थी। लेकिन फिर कोलारस की पूर्व विधायक राम सिंह यादव ने जूली को साल 2005 में जिला पंचायत का सदस्य चुनाव पंचायत सदस्य बनने के बाद शिवपुरी के पूर्व विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने उन्हें सीधा जेल का पंचायत अध्यक्ष बना दिया। उन्होंने 5 साल तक जिम्मेदारी को संभाला जिसके कारण उनका दर्जा बढ़ गया।

एक ऐसा समय था जब जूली मंत्रियों की तरह लाल बत्ती वाली गाड़ी में घुमती थी। हर कोई उन्हें आदर सम्मान देता था। मैडम मैडम कहकर बुलाता था लेकिन बुरे वक्त में किसी ने दी उनके मुंह की तरफ मुड़कर नहीं देखा। आज बस अब सड़कों पर बकरियां चरा रही है। देखते ही देखते समय से बदल गया ।

5 साल का कार्यभार संभालने के बाद जूली को एक बार फिर से हार का सामना करना पड़ा। जिसकी वजह से उन्हें पंचायत निकाल दिया गया पद और नाम भी छीन लिया गया और जूली के परिवार का पेट भरना था। उन्होंने मजदूरी का काम शुरू किया। आज उनकी हालत इतनी ज्यादा खराब है कि लोगों ने पहचानने से भी इंकार कर दिया।

Loading...

इंदिरा आवास योजना के तहत जूली को कुटीर स्वीकृत हुई लेकिन वो भी भ्रष्टाचार के चलते छिन गई। अवैध सरकारी जमीन झोपड़ी बनाकर रह रहे हैं जिसकी हालत कुछ खास नहीं है बकरी चराने हमें हर महीने ₹50 मिलते हैं। जिससे अपने परिवार का लालन पालन कर रही है। जब बकरी या नहीं होती है तो खेत में मजदूरी करने जाती हैं और वहां से जो भी पैसा मिलता है उससे वह अपने घर वालों का पेट भरती हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.