Loading...

कई गहरे रहस्यों से भरा है 400 साल पुराना गोलकोंडा किला, जानिए इसके बारें में कुछ ऐसे ही राज

0 8

भारत में कई राजाओं महाराजाओं ने अपने रहने के लिए आपातकालीन स्थिति में छुपने के लिए के लिए बनवाए थे। इन्हीं में से एक है गोलकोंडा किला, जो हैदराबाद के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह किला देश की सबसे बड़ी मानव निर्मित जिलों में से एक हुसैन सागर झील से लगभग 9 किलोमीटर की दूरी पर बना हुआ है। क्षेत्र के सबसे संरक्षित स्मारकों में यह एक है। आपको बता दें कि यह अपने इतिहास और रहस्यों के लिए जाना जाता है।

इसके लिए का निर्माण एक रोचक इतिहास से जुड़ा हुआ है। कहते हैं कि एक दिन एक चरवाहे लड़के को पहाड़ी पर एक मूर्ति मिली। जब यह मूर्ति की सूचना तत्कालीन शासक राजा को मिली तो उन्होंने उसे पवित्र स्थान मानता है। उसके चारों ओर मिट्टी का किला बनवा दिया। जिसे आज गोलकुंडा किला के नाम से जाना जाता है।

400 फीट ऊंची पहाड़ी पर बने इस किले में 8 दरवाजे हैं और एक टीचर बन गए हैं फतेह दरवाजे के लिए का मुख्य द्वार है जो 13 फीट चौड़ा और 25 फीट लंबा है।

इस किले की शानदार भव्यता का अंदाजा आप यहां का दरबार हॉल देख कर ही लगा सकते हैं। तो हैदराबाद और सिकंदराबाद के दोनों शहरों को ध्यान में रखते हुए पहाड़ी की चोटी पर बनाया गया है यहां पहुंचने के लिए 1000 सीढ़ियां चढ़ने पड़ती है।

Loading...

इस किले का सबसे बड़ा रहस्य ये है कि इसे इस तरह बनाया गया है कि जब कोई किले के तल पर ताली बजाता है तो उसकी आवाज हिस्सार गेट तक पहुँचती हैं। इस जगह को ‘तालिया मंडप’ या आधुनिक ध्वनि अलार्म भी कहा जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.