Loading...

आखिर क्या बृहस्पति ग्रह पर कभी इंसान रह भी पाएंगे या नहीं, जानिए इसके बारे में खास और रोचक बातें

0 14

हमारे सौरमंडल में में अनेक ग्रह और उपग्रह हैं और इनमें सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति है, जो गैसों का एक समूह है। इनमें सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति है। जो गैसों का एक समूह है। इसे शनि, अरुण और वरुण ग्रह के साथ एक गैसीय ग्रह के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इस ग्रह के बारे में लोग प्राचीन काल से ही जानते हैं साथ ही है। अनेक संस्कृतियों की पौराणिक कथा और धार्मिक विश्वासों के साथ जुड़ा हुआ है। भारत में इस ग्रह को गुरु के नाम से जाना जाता है वही अंग्रेजी में इस ग्रह को जुपिटर के नाम से जानते हैं। आज हम आपको बताते हैं कि आखिर इस ग्रह पर इंसान रह जाएंगे या नहीं और उस ग्रह से जुड़ी कुछ अनोखी बातें।

पृथ्वी पर जहां 1 दिन में 24 घंटे का समय होता है तो वह बृहस्पति ग्रह पर एक मात्र 9 घंटे का और 55 मिनट का ही होता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि पृथ्वी के 11 साल में बृहस्पति ग्रह का एक साथ होता है।

बृहस्पति एक चौड़ाई हीलियम द्रव्यमान के साथ मुख्य रूप से हाइड्रोजन से बना हुआ है। या सदा अमोनिया क्रिस्टल और संभवत अमोनियम हाइड्रोसल्फाइट के बादलों से ढका हुआ रहता है। इस ग्रह पर कोई धरातल नहीं है इसलिए यहां पर इंसानों का रहना करीबन असंभव है।

इस ग्रह का अपना शक्तिशाली गुरुत्वाकर्षण बल है। और इसी वजह से इसे सौरमंडल का वैक्यूम क्लीनर भी कहा जाता है। दरअसल ये सौरमंडल में आने वाली भारी उल्का पिंडों को अपनी ओर खींच लेता है। और उन पर हमले करने से बचाता है।

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.