Loading...

सरकार के एक फैसले ने की 5000 करोड़ रुपए की बचत! इस तरह उठाया था यह कदम..

0 8
मौजूदा समय में कच्चे तेल के दामों की बात की जाए तो यह 42 डॉलर प्रति बैरल के आसपास चल रहा है, लेकिन रोना वायरस संक्रमण में एक समय ऐसा भी आया था। जब कच्चे तेल के दाम 19 डाॅलर प्रति बैरल तक पहुंच गए थे। भारत सरकार ने ऐसे मौके पर तेल की खरीद का एक बड़ा सौदा करके 5,000 करोड़ की बचत कर ली है।
आपको बता दें कि इस दौरान खरीदे गए तेल की खरीद के सौदे को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अपनी मंजूरी दे दी है। कच्चे तेल के रणनीतिक भंडारण के लिए 3,874 करोड़ रुपए का खर्चा करने की मंजूरी मिल चुकी है। मंत्रिमंडल के फैसले से मीडिया को रूबरू कराते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि पेट्रोलियम गैस मंत्रालय ने इस तेल की खरीद पर 3,874 करोड़ कल का खर्चा किया था।
इस तेल की खरीद लगभग 19 डॉलर प्रति बैरल थी यह जनवरी 2020 में तेल की 60 डॉलर प्रति बैरल की कीमत के मुकाबले काफी कम है।
Loading...
इतना ही नहीं, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह भी बताया कि भारत में रणनीतिक भंडार में रखे तेल का व्यापार करने के लिए अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी को भी मंजूरी दे दी गई है। कंपनी ने इस रणनीतिक भंडारा का एक हिस्सा पट्टे पर लिया है।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.