Loading...

जानिए आखिर वनवास के दौरान माता सीता ने क्यों किया था पीले रंग के कपड़ों का चुनाव

0 6

भारत में शायद ही कोई ऐसा इंसान होगा जो रामायण और भगवान श्री राम के बारे में ना जानता हो। हिंदू धर्म में रामायण को सबसे ज्यादा पवित्र ग्रंथ माना जाता है। इसलिए भगवान की लिखी गई है रामायण में कुछ ऐसी बात है। जो इनके बारे में लोग आज भी नहीं जानते हैं। कुछ इसी तरीके का सवाल भी है जो कौन बनेगा करोड़पति में पूछा गया था। आपको बता दें कि यह सवाल यह था कि रावण के दौरान माता सीता ने कौन से रंग के कपड़े पहने थे।

रामा से जुड़े सवाल के जवाब ना दे पाने पर हॉट सीट पर बैठे प्रतिभागी ने प्रतियोगिता से बाहर निकलने का फैसला किया। वैसे इस सवाल का सही जवाब पीला रंग है। भगवान राम माता सीता और लक्ष्मण जी ने पूरे वनवास के दौरान पीले रंग के वस्त्र धारण किए हुए थे। इस रंग के कपड़े पहनने के पीछे एक बड़ी वजह भी है।

आपको बता दें कि भगवान राम को 14 साल के वनवास में रहने का आदेश मिलने के बाद से ही माता सीता ने ने भी साथ जाने का फैसला किया। वनवास का मतलब ही होता है कि सारे मोह-माया और सबसे अहम तौर पर वैभव का त्याग करना। जिसके बाद माता सीता ने उसकी जगह पीले रंग के वस्त्र धारण कर लिए थे।

वैसे जानकारी के लिए आपको बता दें कि साधु-संतों गेहुंआ रंग के कपड़े पहनने की परंपरा है मान्यता है कि गेहुआ रंग के कपड़े संसार त्याग को दर्शाते हैं। गेहुंआ रंग के कपड़े पहनने का मतलब होता है कि केवल देह त्याग नहीं बल्कि गृहस्थ जीवन को भी छोड़ देना। आपको बता दें कि माता-पिता संन्यास लेकर नहीं बल्कि वचन वृद्ध होकर वनवास जा रहे थे लिहाजा उन्होंने हुए रंग की जगह पीले रंग को चुना था।

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.