Loading...

नवरात्र पर यह संयोग शुभ नहीं, अगले 1 साल में आएगी और ज्यादा परेशानी

0 5

17 अक्टूबर दिन शनिवार को अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि है । इस दिन से शराबी नवरात्रि का आरंभ होने जा रहा है जो 25 अक्टूबर दिन रविवार को समाप्त हो जाएगा। यही वजह है कि इस बार नवरात्र में 8 दिनों की पूजा और नौवें दिन विसर्जन हो जाएगा अब की बार पुरुषोत्तम मास की वजह से प्रतिपक्ष और नवरात्रि के बीच में 1 महीने का अंतराल आ गया था। नवरात्र का आरंभ हो तो लव संक्राति के साथ हो रहा है लेकिन इसके साथ ही इस वर्ष कुछ ऐसे भी संयोग बन रहे हैं। जिसको लेकर पंडित भी काफी ज्यादा द्विविधा में है आपको बता दें कि आने वाले 1 साल में देश दुनिया में काफी ज्यादा उत्तल पुथल हो सकती है क्योंकि इन दिनों राहु केतु की स्थिति भी अनुकूल नहीं है। ऐसे में स्वास्थ्य को लेकर ज्योतिषी का क्या मत है आइए आपको बताते हैं।

वैसे तो मां भगवती का वाहन शेर हैं। लेकिन मां हर साल नवरात्रि के दिनों में अलग-अलग वाहन से भक्तों को दर्शन देने आते हैं आपको बता दें कि देवी भगवती पुराण के मुताबिक मा दुर्गा जिस वाहन से पृथ्वी पर आती हैं। वह आने वाली घटनाओं के संकेत देते हैं जैसे इस बार मां का आगमन अश्व यानी घोड़े पर हो रहा है और वापसी मां भैंसे पर करेंगी। हालांकि साथ ही यह एक संयोग है।

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस प्रकार दो नवरात्रों में एक वाहन पर आने का शुभ संकेत नहीं है। नवरात्र शनिवार को शुरू हो रहे हैं और शनि पश्चिम दिशा के स्वामी है घोड़े को इस दिशा का कारक माना गया है। इस वजह से पश्चिमी देशों में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है जैसे प्राकृतिक आपदा आंधी तूफान या आतंकवादी जैसी घटना से परेशान हो सकता है।

अमेरिका और चीन में ज्यादा तनाव हो सकता है जिसका खामियाजा पश्चिम देशों को भुगतना पड़ सकता है। तुर्की और फ्रांस के संबंधों में ज्यादा गिरावट आ सकती है। इसके साथ ही साम्प्रदायिकता और युद्ध जैसा खतरा बना रहेगा।

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.