Loading...

जानें क्या है स्वामित्व योजना? जिसके तहत आपकी जमीन के लिए मिलेगा आपको मालिकाना हक..

0 4
जैसा कि आप सभी जानते हैं प्रधानमंत्री मोदी द्वारा कई ऐसे कार्य किए जा रहे हैं, जिससे लोगों को उनके हक के साथ उनका फायदा प्राप्त हो सके। आए दिन सरकार किसानों और ग्रामीण विकास में भी काफी योगदान करती नजर आ रही है। ऐसे में पंचायती राज दिवस के मौके पर शुक्रवार को स्वामित्व स्कीम लांच की गई है।
इस स्कीम के अंतर्गत देश के सभी गांव में ढूंढ के माध्यम से गांव की संपत्ति की मैपिंग की जाएगी, जिसके बाद गांव के लोगों को उस संपत्ति का मालिकाना प्रमाण पत्र दिया जाएगा।
इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने गांव के इंफ्रास्ट्रक्चर को मौजूद करने के लिए यह ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल एप्लीकेशन भी लांच करने का फैसला किया है। कोरोना वायरस से चल रही संकट की स्थिति में प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से देश भर में सरपंचों के साथ बातचीत की। जिसमें उन्होंने को रोना संकट के ऊपर बात की और कहा कोरल कोरोना संकट से हमने अनुभव पाया है कि अब हम आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा। बिना आत्मनिर्भर बने ऐसे संकटों से निपटना बेहद मुश्किल हो सकता है।
Loading...
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रविवार को इस योजना के तहत एक लाख प्रॉपर्टी मालिकों को प्रॉपर्टी कार्ड बांटे गए हैं। यह लाभार्थी फिजिकल कॉपी के साथ का डिजिटल संपत्ति कार्ड भी डाउनलोड कर सकते हैं। ग्रामीण इलाकों में मौजूद घरों के मालिक को के मालिकाना हक का एक रिकॉर्ड रखने वाली इस योजना के तहत प्रॉपर्टी से जुड़े विवादों और सटीक भूमि रिकॉर्ड तैयार किए जा रहे हैं। योजना का मकसद ग्रामीण क्षेत्रों में घरों के मालिकों को अधिकार संबंधी रिकॉर्ड से संबद्ध संपत्ति कार्ड उपलब्ध कराना है।
यह है स्वामित्व स्कीम 
बात की जाए शुक्रवार को जारी की गई स्वामित्व स्कीम की तो आपको बता दें कि यह है कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लांच की गई है। इस को लॉन्च करते हुए प्रधानमंत्री द्वारा कहा गया कि गांव में आवासीय संपत्ति को लेकर जो स्थिति रहती है, वह आप सभी जानते हैं। स्वामित्व योजना इसी को ठीक करने के लिए बनाई गई है। इसके अंतर्गत देश के सभी गांव में ड्रोन के माध्यम से गांव की हर स्थिति को मैपिंग किया जाएगा। इसके बाद गांव के लोगों को उस संपत्ति का मालिकाना प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा, जिससे धोखाधड़ी के मामले कम हो जाए स्वामित्व योजना से ग्रामीणों को एक नहीं अनेक लाभ प्राप्त हो सकेंगे।
इससे गांव में विकास योजनाओं की प्लानिंग में भी काफी हद तक सहायता मिलेगी। इसके साथ ही गांव के लोग भी शहर वालों की तरह बैंक से अपनी संपत्ति पर लोन प्राप्त कर सकेंगे। जब आप स्वामित्व योजना से जुड़ जाएंगे तो उस संपत्ति के आधार पर आप को बैंक से लोन प्राप्त हो जाएगा। अभी तक केवल उत्तर प्रदेश कर्नाटक महाराष्ट्र मध्य प्रदेश हरियाणा और उत्तराखंड में है।
इन योजनाओं का प्रारंभिक तौर से शुरुआत की गई है। पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा बताया गया कि देशभर में ड्रोन के माध्यम से यह कार्य शुरू किया जाएगा। गांव की खेती की जमीन का रिकॉर्ड खसरा खतौनी में तो होता ही है। लेकिन गांव की आवासीय संपत्ति का मालिकाना हक के आधार पर कोई रिकॉर्ड अभी तक नहीं है। इस स्कीम के तहत आवासीय संपत्ति की पैमाइश पर मालिकाना हक भी निश्चित हो जाएगा।
क्या है ई-ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल एप्लीकेशन
सरकार द्वारा इस स्कीम को लॉन्च करते हुए साथ ही इस स्कीम के तहत एक और सहायता उपलब्ध की। जिसका नाम ई-ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल एप्लीकेशन है। पंचायती राज दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने इस यूनिफाइड ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल एप लांच किया। इसके माध्यम से पंचायतों को अपने ग्राम पंचायत विकास योजना तैयार करने और लागू करने के लिए सिंगल प्लेटफॉर्म प्राप्त हो जाएगा, जिससे उन्हें सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने होंगे।
वहीं मोबाइल ऐप के माध्यम से ग्राम पंचायतों के फंड उसके कामकाज की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इसके साथ ही ग्रामीण कार्यों पर पारदर्शिता बढ़ जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि इसको रोना संकट ने दिखा दिया है कि देश के गांव में रहने वाले लोगों ने इस दौरान अपने संस्कारों अपनी परंपराओं की शिक्षा के दर्शन कराए हैं।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.