Loading...

भारत सरकार के हाथ लगी पूरी लिस्ट! किस-किस के हैं  Swiss bank में खाते इस बात की मिली जानकारी..

0 18
Swiss Bank के बारे में तो सभी लोग जानकारी रखते हैं। भारत को स्विट्जरलैंड के साथ सूचना संधि के स्वता आदान-प्रदान के अंतर्गत अपने नागरिकों और संस्थाओं के स्विस बैंक खातों के विवरण का दूसरा सेट प्राप्त हुआ है जो कि विदेशों में कथित रूप से काले धन के खिलाफ सरकार की लड़ाई का एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ है।
स्विट्जरलैंड ने बताया है कि 86 देशों के साथ 31 लाख वित्तीय खातों के बारे में जानकारी दी जाएगी। भारत 79 देशों में से एक है, जिनके साथ स्विट्जरलैंड के संग यह कर प्रशासन के इस साल के AEOI पर वैश्विक मानकों के ढांचे के भीतर वित्तीय खातों की जानकारी का आदान प्रदान किया गया है।
आपको बता दें कि st1 ने शुक्रवार को एक बयान में बताया है कि भारत को कि AEOI के अंतर्गत सितंबर 2019 में स्वीटजरलैंड के विवरण का पहला शहर दिया गया था, जिसमें 75 देश शामिल थे। इस साल सूचना के आदान-प्रदान में लगभग 31 मिलियन वित्तीय खाते शामिल थे। हालांकि यह स्पष्ट रूप से भारत का नाम नहीं दर्शाता था।
Loading...
अधिकारियों ने बताया कि भारत उन प्रमुख देशों मैं से एक है, जिनके साथ स्वीटजरलैंड ने स्विस खाते के ग्राहकों और विभिन्न अन्य वित्तीय संस्थानों के वित्तीय खातों के बारे में जानकारी साझा की है। अधिकारियों की मानें तो इस वर्ष 86 देशों के साथ स्विट्जरलैंड द्वारा तीन मिलियन से भी ज्यादा खातों के बारे में जानकारी के समग्र आदान-प्रदान में एक बड़ी संख्या भारतीय नागरिकों और संस्थाओं से संबंधित है।
अधिकारियों का कहना है कि पुलिस अधिकारियों ने पिछले 1 साल में 100 से अधिक भारतीय नागरिकों और संस्थाओं के बारे में जानकारी साझा की है। यह मामले ज्यादा पुराने हाथों से संबंधित हैं जो 2018 से पहले बंद हो सकते हैं, जिसके लिए स्विट्जरलैंड ने भारत के साथ आपसी प्रशासनिक सहायता के पुराने ढांचे के तहत व्यवस्था किया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारतीय अधिकारियों ने उन खाताधारकों द्वारा गलत कामों के प्रथम दृष्टया दिए थे।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.