Loading...

IPL 2020: CSK के लचर प्रदर्शन से बढ़ी धोनी की मुश्किलें, दिग्गज भी उड़ा रहे हैं मजाक

0 5

आईपीएल सीजन 13 का 21वां मुकाबला बीते बुधवार को चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइटराइडर्स के बीच खेला गया. इस मुकाबले में मानव चेन्नई की टीम ने केकेआर को मानो जीत गिफ्ट कर दी हो. केकेआर की टीम ने सीएसके को 167 रनों का लक्ष्य दिया था. लक्ष्य का पीछा करते हुए सीएसके की टीम ने 1 विकेट के नुकसान पर 10 ओवर में 90 रन बना लिए थे और सभी को ऐसा लग रहा था कि सीएसके की टीम आसानी से मैच में जीत हासिल कर लेगी. लेकिन केकेआर के स्पिनरों ने मैच का पासा ही पूरी तरह से पलट दिया.

सीएसके टीम की हार के बाद पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने टीम को जमकर लताड़ लगाई है. सहवाग ने कहा कि कुछ सीएसके के बल्लेबाजों ने सीएसके टीम को सरकारी नौकरी की तरह समझ लिया है कि कुछ करो या ना करो सैलरी तो मिलेगी. बता दें कि सीएसके की टीम इस आईपीएल सीजन अभी तक 6 मुकाबले खेल चुकी है, जिसमें सीएसके टीम को चार मैचों में हार का सामना करना पड़ा है. प्वांइट टेबल में सीएसके की टीम सबसे निचले पायदान पर बनी हुई है.

2018 में सीएसके ने आईपीएल की ट्रॉफी जीती थी और 2019 में भी फाइनल में अपनी जगह बनाई थी. सीएसके की ओर से बैटिंग ऑर्डर में जडेजा और ब्रावो को पहले भेजा गया. केदार जाधव 12 गेंदों पर 7 रन बनाकर नाबाद रहे. कप्तान धोनी भी 12 गेंदों पर 11 रन ही बना सके. इस मैच के बाद धोनी की कप्तानी पर भी सवाल उठाए जाने लगे हैं.

क्रिकबज से बात करते हुए सहवाग ने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल कर लिया जाना चाहिए था. लेकिन केदार जाधव और रवींद्र जडेजा ने डॉट गेंदें खेली. वह अच्छा नहीं रहा. मेरे हिसाब से कुछ बल्लेबाजों ने सीएसके को सरकारी नौकरी की तरह समझ लिया है. आप कुछ करो या ना करो, आपको सैलरी मिलेगी. सहवाग ने अपने शो वीरू की बैठक में भी केदार जाधव को लताड़ा था और उन्हें बस सजावट का सामान बताया था. सहवाग ने जाधव पर तंज कसते हुए कहा कि केकेआर की ओर से असली मैन ऑफ द मैच अवार्ड तो उन्हें हीं मिलना चाहिए था.

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.