Loading...

आपके घर को बुरी नजर से बचाने का काम करता है बप्पा का स्वरूप स्वास्तिक

0 4

नेगेटिव एनर्जी को दूर करने के लिए लोग घर के मुख्य द्वार पर स्वास्तिक का चिन्ह बनाते हैं। हिंदू धर्म में स्वास्थ्य को काफी ज्यादा शुभ माना गया है और मंगल भावों का प्रतीक भी माना गया है। यह यह ‘सु’ और ‘अस्ति’ से मिलकर बना स्वास्तिक का अर्थ ‘शुभ हो’, ‘कल्याण हो’ होता है। मगर क्या आप इस बात को जानते हैं कि स्वस्तिक का बप्पा से भी गहरा नाता है। चलिए आपको बताते हैं कि भगवान गणेश का संबंध स्वास्तिक से कैसे हैं।

शास्त्रों वेदों में स्वास्थ्य श्री गणेश का स्वरूप माना गया है । स्‍वास्तिक का बायां हिस्सा ‘गं’ बीजमंत्र होता है, जिसे बप्पा का स्थान कहा जाता है। इसमें पाई जाने वाली 4 बिंदियां गौरी, पृथ्वी, कूर्म (कछुआ) और अनन्त देवताओं का वास मानी जाती हैं। कहा जाता है कि स्वास्तिक वाले स्थान पर हमेशा शुभ मंगल और कल्याण होता है और वहां पर गणेश जी का वास भी होता है।

वास्तु के मुताबिक घर की ईशान कोण या उत्तर दिशा में बनवाना शुभ फलदाई होता है इसके अलावा गलती से भी बाथरुम या गन्दी जगह पर स्वास्तिक ना बनाएं ऐसा करने से बुद्धि का नाश होता है।

हालांकि स्वास्थ्य को बनाने का सबसे पहला सही तरीका यही होता है कि आप ऊपर के कोने से से स्वास्तिक की भुजाओं को बनाने की शुरुआत करें। इसके बाद स्वास्तिक के बीच की जगह में चार बिंदी लगा दें।

Loading...

अक्सर लोगों को लगता है कि लाल बिंदी या सिंदूर से बना स्वास्थ्य की घर के लिए शुभ होता है। जबकि ऐसा नहीं है पीले काले रंग का स्वास्थ्य की वास्तु के नजरिए से बेहद शुभ माना जाता है। लाल रंग या सिंदूर का स्वास्थ्य शुभकामनाओं के लिए बनाया जाता है ताकि बीच में आने वाली अड़चनें दूर हो सके वहीं मुख्य गेट पर बना स्वास्थ्य नेगेटिव एनर्जी को घर में घुसने नहीं देता है। पीले रंग का स्वास्थ्य परिवार में सुख शांति व समृद्धि के साथ-साथ सेहत के लिए भी अच्छा माना जाता है।

काले रंग का स्वास्थ्य की बुरी नजर से बचाने के लिए बनाया जाता है। वही ऑफिस के बाहर काले रंग का स्वास्थ्य बनाने से कारोबार में तरक्की आती है इसके लिए आपको काले रंग का इस्तेमाल कर सकते हैं। तर्जनी उंगली पर लाल रंग से स्वास्तिक बनाएं इससे ना सिर्फ अच्छी नींद आती है । बल्कि आपको बुरे सपने भी नहीं आते हैं। पीले रंग का स्वास्थ्य परिवार में सुख शांति समृद्धि के लिए बनाया जाता है आप इसे घर के मंदिर में भी बना सकते हैं।

तर्जनी उंगली पर लाल रंग से स्वास्तिक तो इससे सिर्फ अच्छी नींद नहीं आएगी। वहीं से बुरे सपने भी आपसे दूर रहेंगे। कुमकुम से स्वास्तिक बनाने से देवी देवता प्रसन्न होते हैं और घर में हमेशा खुशियों का वास होता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.