Loading...

EPFO के ये नियम जानना है आपके लिए बेहद जरूरी, इस प्रकार निकाल सकते हैं अपने बंद पड़े PF खाते से पैसा

0 3
नौकरी पैसे वाले व्यक्ति के लिए अपना ईपीएस आता काशी जरूरी होता है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अपने सब्सक्राइब के लिए कई सुविधाएं प्रदान करता है। वहीं कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में कई तरह के नियम भी देखने को मिलते हैं। पैसा निकालने से पैसा ट्रांसफर कराने के लिए अलग नियम है। यहां तक की यदि आप अपने खाते से जुड़ी जानकारी के लिए भी अलग नियम को मानना होगा।
नियम को समझना आपके लिए बेहद जरूरी होगा, क्योंकि इन नियमों का जानना अपना खाता सुचारू रूप से चलाने के लिए आपके लिए बेहद आवश्यक है। नियमों की बात की जाए तो ईपीएफ खाते से जुड़े कई प्रकार के अलग-अलग नियम होते हैं, जिनके अभाव में आपका पैसा फंस सकता है। ईपीएफ में एक ऐसा नियम भी जारी होता है, जिसके अनुसार आपका पीएफ खाता खुद-ब-खुद बंद हो जाता है। हमारी इस बात पर आपको विश्वास नहीं हो रहा होगा, लेकिन यह बात पूरी तरह सच है कि ईपीएफ में यह नियम भी लागू होता है। आइए जानते हैं इस नियम के बारे में पूर्णता-
यदि बात की जाए ईपीएफ खाते के 7 साल वाले नियम की तो इस नियम के हिसाब से पीएफ खाते के निचले होने पर जिस रकम पर क्लेम नहीं किया जा सकता। वह सीनियर सिटीजन वेलफेयर फंड में पहुंच जाती है। इस नियम के अनुसार बिना बाबे वाली रकम को खाते से 7 साल तक निष्क्रिय रहने पर सीनियर सिटीजन वेलफेयर में इस धनराशि को ट्रांसफर कर दिया जाता है।
Loading...
इतना ही नहीं, ईपीएफ और एमपी एक्ट 1952 के अधिनियम की धारा 17 से छूट पाने वाले ट्रस्ट भी सीनियर सिटीजंस वेलफेयर फंड के अधिनियम के दायरे में आते हैं।
इस तरह कर सकते हैं अपने इनएक्टिव खाते से पैसा ट्रांसफर-

UAN नंबर और पासवर्ड से अपना EPF अकाउंट लॉग-इन करें। पेज पर ऊपर दिए गए टैब में से Online Services में जाएं। ड्रॉप डाउन में One Member-One EPF Account Transfer Request’ ऑप्शन को सलेक्ट करें। UAN नंबर डालें या अपनी पुरानी EPF मेंबर आईडी डालें. आपकी अकाउंट डिटेल्स आपके सामने होंगी। यहां ट्रांसफर वैलिडेट करने के लिए अपनी पुरानी या नई कंपनी को सलेक्ट करें। अब पुराना अकाउंट सलेक्ट करें और ओटीपी (OTP) जेनरेट करें।

 

OTP एंटर करने के बाद आपकी कंपनी को ऑनलाइन मनी ट्रांसफर प्रोसेस का रिक्वेस्ट चला जाएगा। अगले तीन दिन में यह प्रोसेस पूरा होगा। पहले कंपनी इसे ट्रांसफर करेगी। फिर EPFO का फील्ड ऑफिसर इसे वेरिफाई करेगा।  EPFO ऑफिसर की वेरिफिकेशन के बाद ही पैसा आपके खाते में ट्रांसफर होग। ट्रांसफर रिक्वेस्ट पूरी हुई या नहीं इसके लिए आप स्टेटस को Track Claim Status में ट्रैक कर सकते हैं। ऑफलाइन ट्रांसफर के लिए आपको फॉर्म 13 भरकर अपनी पुरानी कंपनी या नई कंपनी को देना होगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.