Loading...

IPL 2020: कभी नहीं थे क्रिकेट किट खरीदने के पैसे, पिता थे ड्राइवर, आज आईपीएल में धूम मचा रहा है ये धाकड़ खिलाड़ी

0 5

आईपीएल सीजन 13 का 14वां मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच के बीच खेला गया. क्रिकेट फैंस को इस मुकाबले में एक नया स्टार देखने को मिला. सनराइजर्स हैदराबाद के युवा बल्लेबाज प्रियम गर्ग ने धमाकेदार अर्धशतक लगाया. चारों उनकी बल्लेबाजी की तारीफ हो रही है. प्रियम गर्ग ने शुक्रवार को चेन्नई के विरुद्ध मात्र 26 गेंदों पर 51 रनों की शानदार पारी खेली. प्रियम गर्ग ने यह पारी उस समय खेली जब हैदराबाद के बड़े बड़े स्टार क्रिकेटर आउट होकर पवेलियन जा चुके थे.

बता दें कि प्रियम गर्ग ने टीम इंडिया की कप्तानी की है. प्रियम गर्ग का क्रिकेट के मैदान पर सफर काफी मुश्किलों भरा रहा है. यदि आप उनके संघर्ष को जानेंगे तो भावुक हो जाएंगे. प्रियम गर्ग ने मात्र 11 साल की उम्र में ही अपनी मां को दिया था. वो उत्तर प्रदेश के मेरठ से 25 किलोमीटर दूर क़िला परिक्षितगढ़ के रहने वाले है. प्रियम की मां चाहती थी कि उनका बेटा क्रिकेटर बने. आज प्रियम गर्ग एक कामयाब क्रिकेटर बन गए हैं. लेकिन उनकी मां यह देखने के लिए जिंदा नहीं है.

मां की मौत के बाद प्रियम गर्ग ने अपने सपनों को पूरा करने के लिए दिन रात मेहनत की. उन्होंने पढ़ाई के साथ-साथ क्रिकेट के मैदान पर 7 से 8 घंटे तक प्रैक्टिस की. 7 साल बाद साल 2018 में प्रियम गर्ग का उत्तर प्रदेश की रणजी टीम में चयन हुआ. प्रियम के पिता नरेश गर्ग घर का खर्च चलाने के लिए स्कूल वैन चलाते थे. बता दें कि प्रियम गर्ग पांच भाई-बहन हैं.

उनका परिवार काफी बड़ा है. जिस कारण पिता को घर चलाने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था. लेकिन इसके बावजूद भी प्रियम के पिता ने क्रिकेट में उनकी दिलचस्पी को देखते हुए कभी कोई कमी नहीं होने दी. प्रियम गर्ग के पास क्रिकेट किट खरीदने के लिए पैसे नहीं थे, तो उनके पिता ने अपने दोस्तों से उधार लेकर अपने बेटे की डिमांड पूरी की. प्रियम गर्ग 6 साल के थे तब ही उनके पिता उन्हें क्रिकेट कोचिंग के लिए भेजने लगे. आज उनके पिता की ये मेहनत रंग ला रही है

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.