Loading...

खाता खाली होने पर भी निकाल सकते हैं 5,000 की राशि, जानें जनधन खाते पर मिलने वाली इस खास सुविधा के फायदे..

0 6

क्या आप जानते हैं सभी बचत खातों में एक न्यूनतम राशि बैलेंस मेंटेन रखना अनिवार्य होता है। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आपके अकाउंट से पेनल्टी काटी जाती है। यदि किसी बैंक में आपका बचत खाता है, तो आपको भी इन नियमों के अनुसार अपने खाते में मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी होता है।

प्रत्येक बैंक द्वारा यह सीमा अलग-अलग तय की गई है। बैंक में 5,000 से 10,000 रुपए तक का मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी होता है।

यदि हम बात करें प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत खुले खातों की, तो आपको बता दें कि इन खातों में ग्राहकों को किसी भी तरह के मिनिमम बैलेंस रखने की आवश्यकता नहीं होती है। जैसा कि आप जानते हैं ग्राहकों का खाता जीरो मिनिमम बैलेंस द्वारा खोला गए थे। उसी प्रकार इनका मिनिमम जीरो बैलेंस ही है।
Loading...
वही इस योजना के तहत खोलें खातों में ओवरड्राफ्ट की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है। यानी कि जीरो बैलेंस पर 5,000 रुपये ओवरड्राफ्ट की सुविधा खाताधारकों को उपलब्ध कराई गई है। ओवरड्राफ्ट एक तरह का छोटे वक्त तक के लिए दिया गया लोन जैसा होता है।
वैसे तो आमतौर पर यह सुविधा उन खाताधारकों के लिए होती है जो अंतिम  6 महीने के लिए योजना के तहत निर्धारित पर्याप्त बैलेंस बनाए रखते हैं। इसके साथ-साथ खाताधारकों को रुपए डेबिट कार्ड से एक्टिव ट्रांजैक्शन कराना भी आवश्यक होता है। इस खाते में खाता धारक का आधार कार्ड बिलिंग होना अनिवार्य होता है।
यदि आपने इन तीनों चीजों में से एक भी चीज़ नहीं की है, तो यह बैंकों के विवेक पर निर्भर करता है कि आपको ओवरड्राफ्ट की सुविधा दी जाएगी या नहीं।
आपको यह बात भी ध्यान में रखनी चाहिए कि 5,000 रूपय के ओवरड्राफ्ट पर बैंक ब्याज भी लेता है। इतना ही नहीं, खाता धारक की अच्छी क्रेडिट हिस्ट्री भी इस सुविधा का लाभ देने के लिए अति आवश्यक होती है। क्रेडिट हिस्ट्री अच्छी होने पर 5,000 की इस सीमा को 15,000 रुपए तक बढ़ाया जा सकता है। आपको बता दें कि ओवरड्राफ्ट पर बैंक 12 से 20% तक की ब्याज लेती है।
ओवरड्राफ्ट की इस ब्याज दर को प्रत्येक बैंक अलग अलग लेती है। इस योजना के तहत 28 अगस्त 2018 के बाद खोले गए सभी बैंक खातों के लिए सरकार ने दुर्घटना बीमा एक लाख रुपए से बढ़ाकर दो लाख कर दी है। सरकार मानती है, कि आने वाले दिनों में इस योजना का दायरा अभी काफी हद तक बढ़ाया जा सकता है।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.