Loading...

मुंबई में कांगो बुखार का फैला कहर, जानिए इसके लक्षण और उपचार के बारें में

0 44

कोरोना संकट के बीच वायरल फ्लू डेंगू मलेरिया जैसी बीमारियों से तो लोग जुंझ रहे थे। अब कांगो बुखार ने भी लोगों की चिंता बढ़ा दी है महाराष्ट्र के पालघर जिले में इस बीमारी के संभावित संक्रमण को लेकर अधिकारियों को सावधान रहने का निर्देश दिया है। आपको बता दें कि कांगो बुखार यानी क्राइमियन कांगो हेमोरेजिक फीवर से एहतियात बरतने की सलाह दी की जा रही है। क्योंकि इसका कोई भी विशेष कारगर इलाज उपलब्ध नहीं है। कोरोना की तरह इसके लक्षणों से इसका उपचार किया जा रहा है।

यह वायरल बीमारी खास तरह के कीट के जरिए एक जानवर से दूसरे जानवर में फैलती है। जानवरों के खून के संपर्क में आने से ही ऐसे जानवरों का मांस खाने पर इंसानों में यह बीमारी फैलती है। सही समय पर बीमारी का पता लगाकर अगर इसका इलाज नहीं किया जाए तो इसमें से 30% मरीज ऐसे हैं जिनकी मौत हो जाती है। आपको बता दें कि विश्व स्वास्थ संगठन के मुताबिक इसके लक्षण दिखने में 6 से 13 दिन का समय लगता है।

हालांकि इसके लक्षणों की बात की जाए तो इससे संक्रमित होने वाले मरीजों में बुखार के साथ-साथ मांसपेशियों में दर्द सिर का दर्द चक्कर आना जब के लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ मरीजों को सूर्य की रोशनी से भी दिक्कत होती है। आंखों में सूजन आती है संक्रमण के दो से 4 दिन बाद नींद ना आना डिप्रेशन और पेट में दर्द के लक्षण भी सामने आते रहते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.