Loading...

प्लेयर्स के लिए बड़ी खुशखबरी! भारत में जल्द वापसी करेगा PUBG, अंतिम चरण पर पहुंची बातचीत..

0 4

जैसा कि आप सभी जानते हैं चीन और भारत के बीच शुरू हुई तनातनी के माहौल के बाद सरकार द्वारा 118 चाइनीस एप्स को भारत में बैन कर दिया था। ऐसे में इन गेम्स की सूची में सब्जी का नाम भी शामिल है। आपको बता दें कि भारत सरकार द्वारा हाल ही में मोबाइल गेम पब्जी बैन करने का झटका देश को दिया है। देश की गेमिंग कम्युनिटी को यह काफी सदमे जैसा लगा है, लेकिन इस गेम की डेवलपर कंपनी टेंसेंट को सबसे बड़ा और भारी नुकसान पहुंचा है।

इतना ही नहीं, आपको बता दीजिए टेंसेंट पब्जी गेम इन ऐप के माध्यम से ही भारत में सबसे ज्यादा कमाई करता था। हर रोज इस गेम पर लगभग तीन करोड़ एक्टिव यूजर्स पाए जाते थे। इस गेम के सबसे ज्यादा एक्टिव यूजर्स के मामले में भारत सर्वोपरि था यही कारण है कि टेंसेंट भारत में सबसे ज्यादा कमाई करने वाला ऐप था।

ऐसे में एशिया के सबसे रईस मुकेश अंबानी पब्जी के भारतीय बिजनेस को खरीदने में अपना हाथ आजमा रहे हैं। आपको बता दें कि जल्द ही यह ऑनलाइन गेम उनकी टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जिओ का एक हिस्सा बनने वाला है। गेमिंग इंडस्ट्री में एक लंबे समय से मुकेश अंबानी अपना अक्सर दूर से देख रहे थे। दक्षिण कोरियाई कंपनी क्राफ्ट ऑन के मोबाइल गेम पब्जी पर पिछले दिनों भारत सरकार ने भारत और चीन के बीच हुई तनातनी के बाद बंद कर दिया था।
ऐसे में यदि पब्जी और रिलायंस जिओ एक साथ आ जाते हैं तो यह दोनों के लिए अच्छी बिजनेस डील साबित हो सकती है। एक तरफ रिलायंस जियो को गेमिंग इंडस्ट्री में शानदार कदम रखने का मौका मिल जाएगा। वहीं दूसरी ओर बहन का सामना कर रहे पबजी कि भारत के मार्केट में भी वापसी हो पाएगी। एक रिपोर्ट के मुताबिक बताया जाए तो रिलायंस जिओ में भारत में पब्जी के पब्लिशर और डिस्ट्रीब्यूटर के तौर पर काम कर सकते हैं।
इस बात की पूरी जानकारी रखने वाले सूत्रों के मुताबिक दोनों कंपनियां रेवेन्यू शेयरिंग और लोकलाइजेशन को लेकर फिलहाल विचार कर रही है। अब तक रिलायंस जिओ या फिर पब्जी की ओर से इस संबंध में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है। आपको बता दें कि इस दिल के साथ ही और भी दुनिया के सबसे बड़े मार्केट में वापसी कर पाएगा।
एक खबर के मुताबिक देखा जाए तो पब्जी के भारत में 175 मिलियन डाउनलोड थे जो पूरी दुनिया में उसके डाउनलोड का 24% के बराबर हिस्सा था। पिछले दिनों चीन के कई एप्स को भारत सरकार द्वारा देश में बैन कर दिया गया था।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.