Loading...

जानिए सिर्फ आदमियों के कान से ही क्यों निकलते है बाल

0 19

आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ व्यक्तियों के कानो के अंदर भी बाल होते हैं। कई बार बच्चे तथा बड़े भी ऐसा मजाक उड़ाते हैं। परंतु क्या आप इस बात को जानते हैं कि यह कोई मजाक की बात नहीं है। बल्कि यह एक खतरनाक बीमारी का संकेत भी हो सकता है हालांकि कई बार इसके पीछे अलग-अलग कारण होते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं अलग-अलग कारणों के बारे में।

कई लोग इसे ज्योतिष ( astrology) से जोड़ते हैं।
कई लोग इसे अनुवांशिक (genetic)बताते हैं।
कई लोग इसे जीवन शैली यानी(life style) से जोड़ते हैं।
कई लोग ऐसा मानते हैं कि सिगरेट, तंबाकू आदि पदार्थों के सेवन के कारण यह होता है।
विज्ञान की दृष्टि से देखें तो इसे हारमोंस मे असंतुलन के कारण यह होता है।

ऐसा कहा जाता है कि जिन व्यक्तियों के कान पर बाल होते हैं वह व्यक्ति बहुत ही होशियार कंजूस और स्वार्थी स्वभाव के होते हैं।

अनुवांशिकी का अर्थ होता है लक्षणों का एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में आना तो ऐसा जरूरी नहीं है कि जिस के दादाजी या पिताजी के कान पर बाल आ रहे हैं तो आगे की पीढ़ियों में भी रहेंगे।

Loading...

यदि आज के समय की बात की जाए तो जल्दी सोना जल्दी उठने का कांसेप्ट लगभग खत्म हो चुका है। आप देर रात तक जागना और सुबह देर तक सोना के कारण कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं। उनमें से यह एक है।

सिगरेट में पाए जाने वाला निकोटीन मनुष्य के शरीर में हार्मोन के कार्य को प्रभावित करता है। जिसके कारण हार्ड अटैक जैसी संभावना अधिक बढ़ जाती है और यह बीमारी भी व्यक्ति को लग जाती है।

मनुष्य का शरीर एक बहुत ही जटिल तंत्र है जिसे समय-समय पर आराम की भी जरूरत होती है। नहीं तो कई सारे तक जैसे पाचन तंत्र स्वतंत्र परिसंचरण तंत्र तंत्र काम नहीं कर पाते।

सभी तंत्रों को साथ में कार्य करने के लिए समन्वय करना जरूरी होता है। जोकि अंतः स्रावी तंत्र या (endocrine system) करता है। हालांकि सवाल यह है कि कान के बाहर या अंदर से बाल केवल आदमी में ही क्यों दिखाई देते हैं इस तरह के बाल स्त्रियों में क्यों नहीं है। इसका कारण यह है कि आदमियों में स्रावित होने वाला टेस्टोस्टेरोन हार्मोन जो आदमियों के हेयर ग्रोथ मसल गेम और फर्टिलिटी को प्रभावित करता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.