Loading...

घर बैठे एक बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं अपने PF खाते को Aadhaar से लिंक, लिंकिंग प्रोसेस पूरा कर मिलेंगी कई सुविधाएं! जानें पूरी खबर..

0 7

कम ब्याज दरों के चलते भी पब्लिक प्रोविडेंट फंड सभी के बीच काफी प्रचलित है, लेकिन यदि आप नौकरी करने वाले व्यक्ति हैं और यूपीएस की ऑनलाइन सर्विस का फायदा उठाना चाहते हैं तो यह खबर आपके लिए काफी लाभदायक सिद्ध हो सकती है। हम आपको ऐसे तीन दस्तावेजों के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि आपके EPF खाते में अवश्य होने चाहिए।

कुछ सालों में कर्मचारियों की पी एस की राशि को मैनेज करने के लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने पीएस से जुड़ी लगभग कई सेवाओं को ऑनलाइन कर दिया है। ऐसे में यदि आप ईपीएफओ सब्सक्राइबर हैं तो आपको कंपनी बदलने पर भी पीएफ ट्रांसफर और पीएफ क्लेम या आंशिक निकासी जैसी सेवाओं के लिए ऑफलाइन फॉर्म भरने की आवश्यकता नहीं होती है।

 

यह काम आप आसानी से ऑनलाइन भी कर सकती हैं। इसके लिए आपको किसी पुराने ऑफिस के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। इसके लिए जरूरी है कि आपका यूएएन सक्रिय हो और आपके केवाईसी के पूरे दस्तावेज आपके खाते से लिंक हुए हो।

आपको बता दें कि जिन तीन दस्तावेजों की हम बात कर रहे हैं जो कि ईपीएफ खाते से लिंक होने चाहिए, वह हैं आधार कार्ड, पैन कार्ड और अकाउंट नंबर। पीएफ ट्रांसफर, पीएफ विड्रोल, पीएफ क्लेम आपको इन तीनों में से जो भी कराना हो उसके लिए यह तीनों दस्तावेज बड़े ही काम के हैं।
अगर अभी तक आपने अपने दस्तावेजों को अपने खाते से लिंक नहीं दिया है तो आइए जानते हैं इसे लिंक करने की प्रक्रिया कैसे हैं। सबसे पहले तो आपको यूनिफाइड मेंबर पोर्टल पर जाना होगा। इसके अंदर अपने UAN पासवर्ड के द्वारा लॉग इन करना होगा। लोगिन करने के बाद मैंने सेक्शन में जाकर यहां अपने केवाईसी ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
अब आप बैंक पेन और आधार को सिलेक्ट करके दिए गए कॉलम में डॉक्यूमेंट नंबर नाम और अन्य सभी जानकारियां यहां भर सकते हैं। इसके पास इन जानकारियों को आपको वर्तमान कंपनियां पुराने कंपनी की ओर से स्वीकृति दी जाएगी। आपके आधार को यूआईडीएआई जबकि पैन को आयकर विभाग द्वारा व्यवसाय किया जाएगा। वेरिफिकेशन के बाद जब आप फिर केवाईसी पर क्लिक करेंगे तो आपको नीचे एक स्टेटस दिखाई देगा। जिससे आपको पता लगेगा कि आपकी वेरिफिकेशन पूरी हो गई है या नहीं।
ऐसा करते हुए ध्यान रखने योग्य बात यह है कि बैंक खाते की जानकारी भरते समय अतिरिक्त सावधानी बरतने होगी। क्योंकि आखिर में पीएफ की राशि आपके खाते में ही आनी है, जिसके लिए आपका बैंक खाता नंबर और आईएफएससी कोड एकदम सही हो। दूसरी बात यह ध्यान रखने योग्य है कि आधार और पैन की जानकारी भी बिल्कुल सही होनी चाहिए। क्योंकि वेरिफिकेशन की जानकारी गलत पाए जाने पर आपको काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।
Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.