Loading...

यकीनन आपको नहीं होगी किन्नरों के अंतिम संस्कारों से जुड़े इन रहस्यों के बारे में कोई भी जानकारी

0 53

जब भी शादी-विवाह या बच्चे के जन्म का असर होता है तो घर पर किन्नर आते हैं, जो नाच- गाकर खुशियां मनाते हैं और दुआएं देते हैं. लेकिन हमारे समाज में किन्नरों को अलग दृष्टि से देखा जाता है. किन्नरों के अंतिम संस्कार की रस्में अलग होती हैं. इनका अंतिम संस्कार कैसे होता है, इससे जुड़े कई रहस्य हैं.

ऐसा माना जाता है कि किन्नरों के पास आध्यात्मिक शक्ति होती है जिससे उन्हें पहले ही मौत का आभास हो जाता है. जब उन्हें इस बात का आभास हो जाता है तो वह आना-जाना बंद कर देते हैं और खाना-पीना भी बंद कर देते हैं. इस दौरान वो केवल पानी पीते हैं और भगवान का भजन करते हैं.

किन्नर समुदाय के लोगों में मौत की खबर किसी दूसरे समाज के व्यक्ति को नहीं दी जाती और यह भी ध्यान रखा जाता है कि किन्नर का अंतिम संस्कार कोई देख ना सके. ऐसा माना जाता है कि अगर किन्नर का अंतिम संस्कार कोई देखता है तो वह व्यक्ति अगले जन्म में किन्नर बनता है.

किन्नरों की शव यात्रा निकलने से पहले उनके शव को जूते-चप्पलों से पीटा जाता है. किन्नर की मौत के बाद पूरा किन्नर समुदाय 1 सप्ताह तक व्रत करता है. किन्नरों में शव को जलाने की जगह दफनाया जाता है. उनका अंतिम संस्कार सादे ढंग से होता है. मृतक का अंतिम संस्कार समुदाय से बाहर जाकर किया जाता है. ताकि कोई इंसान उसे देख ना सके. इसी वजह से उनका अंतिम संस्कार देर रात में किया जाता है.

Loading...

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.