Loading...

दुनिया का एक ऐसा तानाशाह, जो दिन में 20 से 40 बार शराब से धोता था हाथ

0 4

महान दार्शनिक और मार्क्सवाद के प्रवर्तक कार्ल मार्क्स ने एक बार कहा था कि लोग अपना इतिहास खुद बनाते हैं। लेकिन इतिहास कभी भी उन्हें पसंद नहीं करता। यह बात रोमानिया के तानाशाह रहे निकोलय चाचेस्कू पर बिल्कुल फिट बैठती है आपको बता दें कि निकोलय चाचेस्कू ने लगातार 25 सालों तक देश में राज किया और उनके डर से न लोग कुछ बोलते थे और न ही वहां की मीडिया। उन्होंने अपना इतिहास बनाने की कोशिश की लेकिन आज रोमानिया का इतिहास उनको पसंद नहीं करता।

वैसे तो दुनिया में कई सारे तानाशाह हुए लेकिन निकोल जैसा कोई नहीं हुआ। कहा जाता है कि 60से 70 दशक में चाचेस्कू ने आम लोगों की भी निगरानी में अपनी खुफिया पुलिस लगी रखी थी। यह जानने के लिए कि लोग अपनी निजी जिंदगी में भी क्या कर रहे हैं बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक रोमानिया में भारत के राजदूत रह चुके राजीव डोगरा ने बताया है कि निकोले के जमाने में पास में बैठे लोगों पर भी नजर रखने के लिए खुफिया एजेंट बैठाया जाता था । इसका पता लोगों को ना चले इसलिए वो अखबार में किए एक छेद के सहारे लोगों को देखा करता था।

राजीव डोगरा ने इस बात को बताया कि चाचेस्कू की मौत के 10 साल बाद भी रोमानिया में लोग डर के साये में जीते थे। वह अपनी परछाई से भी घबराते थे और सड़क पर चलते समय बार-बार पीछे मुड़कर देखा करते थे

रोमानिया में लोग चाचेस्कू को ‘कंडूकेडर’ के नाम से जानते थे। जिसका मतलब होता है नेता जबकि उसकी पत्नी एलिन आफ रोमानिया की राष्ट्रमाता का खिताब दिया गया था। कहते हैं कि तानाशाही का आलम यह था कि जब कोई दो टीमों के बीच फुटबॉल मैच होता था तो एलीना यह तय करती थी कि जीत किस टीम की होगी और वह मैच टीवी पर प्रसारित भी किया जाएगा या फिर नहीं।

Loading...

कहा तो यह भी जाता है कि चाचेस्कू को साफ सफाई की बीमारी थी। जिसकी वजह से वह दिन में 20 से 40 बार अपने हाथ को धोता था और वह भी शराब से दरअसल वह डरते थे कि कहीं उन्हें कोई इंफेक्शन ना हो जाए। हाथ धोने की बीमारी का आलम यह था कि जब वह साल 1979 मैं ब्रिटेन गए तो वहां की महारानी एलिजाबेथ उनसे मिलने के बाद भी उन्होंने अपने हाथ शराब से धोए थे। यहां तक कि अपने बाथरूम में उचित हाथ धोने के लिए शराब का इस्तेमाल करते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.