Loading...

जर्मन सैनिकों को अपने जाल में फ़साने का काम करती थी ये महिला जासूस, फ्लर्ट करके हासिल करती थी जानकारियां

0 24

अगर कोई महिला खूबसूरत हो बिंदास हो गजब की लड़ाका सैनिक हो और शातिर जासूस तो उसके बारे में आप क्या कहेंगे। जासूसी कहानियों में किसी महिला का लड़ाका हो ना हमेशा से ही हर व्यक्ति को बहुत ज्यादा आकर्षित करता है। इसका सबसे बड़ा कारण है महिलाओं का इस तरह के किरदार में तुम देखना जो चीज समान नहीं होती। वो हमेशा आकर्षित करती है। ऐसी ही एक महिला जासूस थी नैंसी ग्रेस ऑगस्ता वेक। इन्हें लोग नैंसी वेक भी कहते थे।

जानकारी कि आपको बता दें कि दूसरे विश्व युद्ध की मशहूर महिला लड़ाकू में एक नैंसी का जन्म न्यूजीलैंड में 30 अगस्त 1912 ईस्वी को हुआ था लेकिन उनका लालन पोषण ऑस्ट्रेलिया में हुआ 16 साल की उम्र में नैंसी स्कूल से भाग गई और प्रांत में बतौर पत्रकार काम करने लगी।
ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने यह नौकरी पाने के लिए झूठ बोला कि वह मिस्र के इतिहास के बारे में बहुत कुछ जानते हैं। और इस बारे में उन्हें लिखना भी बेहद पसंद है।

फ्रांस में उन्हें कारोबारी से प्यार हो गया और दोनों ने शादी कर ली साल 1949 में जब जर्मनी फ्रांस पर हमला किया तो वह क्रांति तीव्र विरोध के साथ व जुड़ गई उन्होंने सहयोगी वायु सैनिकों को स्पेन में सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने में मदद की। साल 1942 में उनके नेटवर्क ने धोखा देकर सारी जानकारियां जर्मनी को दे दी।

नैंसी के पति फ्रांस में ही छूट गए थे और उन्हें नाजियों ने पकड़ लिया था। इतना ही नहीं नाजियों ने यातना देकर उन्हें मार दिया नैंसी ने ब्रिटेन में ब्रिटिश स्पेशल ऑपरेशंस एग्जीक्यूटिव एजेंट के साथ काम करना शुरू कर दिया। इस दौरान वाकई खतरनाक मिशन में शामिल हुई कहा जाता है कि एक बार उन्हें केवल हाथों से ही एक जर्मन संत्री को मार दिया था।

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.