Loading...

55 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार! प्रधानमंत्री करेंगे मत्स्य संपदा योजना की शुरुआत, जानें कैसे मिलेगा इसका फायदा..

0 16
इस बात से तो हर कोई वाकिफ है कि मोदी सरकार के आने के बाद से रोजगार में काफी बढ़ोतरी देखी गई है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आत्मनिर्भर अभियान पर भी काफी काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गुरुवार 10 सितंबर को प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की शुरुआत करने जा रहे हैं।
इस मौके पर प्रधानमंत्री बिहार में मछली पालन और पशुपालन सेक्टर के लिए कई बड़े ऐलान करेंगे। कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री e-Gopala App भी लॉन्च करेंगे। इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री और गवर्नर वहां मौजूद रहेंगे।
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री बतासे संपदा योजना को देश भर के मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए शुरू की जा रही है। केंद्र सरकार ने अगले 5 वर्षों में वित्तीय वर्ष 2020-21 से 2024-25 तक की इस स्कीम में लगभग 20,050 करोड़ रुपए का खर्चा करने का तय किया है। यह अब तक इस सेक्टर में खर्च की जाने वाली सबसे बड़ी राशि होने वाली है। यह स्कीम आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत चलाई जा रही है। सरकार के मुताबिक, इस स्कीम से देश में लगभग 55 लाख बेरोजगारों को रोजगार दिया जाएगा।
Loading...
इतना ही नहीं, आपको बता दें कि इस मौके पर प्रधानमंत्री कि इस योजना के अंतर्गत सीतामढ़ी में फिश ब्रूड बैंक और किशनगंज में एक्वा टेक डिसीज रेफरल लैबोरेट्री की शुरुआत भी की जाएगी, जिससे मछली के उत्पादन को बढ़ाने में सहायता मिलेगी। इन सुविधाओं से मछली पालन को को अच्छी मछली के बच्चे भी प्राप्त हो पाएंगे।
इस मौके पर मधेपुरा में एक मछली के लिए चारा बनने का प्लांट भी शुरू किया जाएगा। बिहार पूसा में स्थित डॉ राजेंद्र प्रसाद सेंट्रल एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी एक फैशन टेक्नोलॉजी सेंटर की स्थापना भी की जाएगी।
यह योजना सरकार द्वारा चलाई जाने वाली इस सेक्टर की सबसे ज्यादा महंगी योजना होने वाली है। प्रधानमंत्री मदद से संपदा योजना के अंतर्गत देश में 2024-25 में मछली के उत्पादन को लगभग 70 लाख टन तक बढ़ाने का लक्ष्य तय किया गया है। सरकार ने 2024-25 तक मछली के निर्यात से एक लाख करोड़ रुपए की इनकम करने का लक्ष्य सादा है।
मछली पालन में लगे लोगों की आय को दोगुना करने के साथ ही मछली की प्रोसेसिंग में होने वाले नुकसान को भी 25% तक घटाने के लिए एक योजना का निर्माण किया गया है। इसके साथ ही इस योजना का एक फायदा यह भी है कि इससे करीब 55 लाख लोगों को रोजगार भी प्राप्त होगा।
इतना ही नहीं, इसके अलावा सरकार द्वारा लांच किया गया e-Gopala App एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसके माध्यम से पशुपालक उत्पादन बढ़ाने के लिए अपनी जानवरों की नस्ल को सुधारने के लिए कई जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। इस डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से किसान बेहतर पेमेंट एमब्रीओस आदि की खरीदारी भी कर पाएंगे। यहां पर किसानों को एक अच्छी क्वालिटी की ब्रीडिंग सर्विस जैसे आर्टिफिशियल इनसेमिनेशन वैक्सीनेशन ट्रीटमेंट आदि की जानकारी भी उपलब्ध कराई जाएगी।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.