Loading...

जीभ पर कड़वा स्वाद देर से आता है, जबकि मीठा पहले, आखिर क्यों ?

0 18

हमारी जीभ पर चार प्रकार की स्वाद कालिकाएं पाई जाती हैं, जिनका क्रम आगे से पीछे की ओर निम्न प्रकार होता है- सबसे पहले मीठा, फिर नमकीन, फिर खट्टा और आखिर में कड़वा. इस जानकारी से आपको यह समझ आ गया होगा कि जीभ पर कड़वे स्वाद के लिए जिम्मेदार स्वाद कालिकाएं जीभ पर अंत में होती है, इसीलिए कड़वापन का पता आखिर में चलता है. उदाहरण के लिए जब हम ककड़ी खाते हैं तो शुरुआत में हमें उसके पानी वाले तत्व का स्वाद आता है. लेकिन थोड़ी देर में पता चलता है कि वह कड़वी है.

मां के दूध का स्वाद कैसा होता है

इन स्वादों के अतिरिक्त एक स्वाद और होता है जिसे यूमामी या umami कहते हैं. यूमामी या umami एक जापानी शब्द है जिसका मतलब है यम्मी. यह स्वाद मांस, मछली आदि में पाया जाता है. ऐसा कहा जाता है कि इसमें चारों स्वाद-मीठा, नमकीन, खट्टा, कड़वा का मिश्रण होता है. वैज्ञानिक कहते हैं कि इसका स्वाद मां के दूध की तरह होता है.

Loading...

तीखापन क्या होता है

तीखापन कोई स्वाद नहीं है, बल्कि यह एक सेंसेशन है.

बचपन और बुढ़ापे में स्वाद की समझ क्यों नहीं होती

एक वयस्क व्यक्ति की जीभ में लगभग 10,000 स्वाद कालिकाएं होती है. जबकि बच्चों में कम विकसित होती हैं और बुढ़ापे में कालिकाओं की संख्या काफी कम हो जाती है. इस वजह से बच्चों और बूढ़ों को स्वाद का पता नहीं चल पाता.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.