Loading...

बारिश के बाद आसमान में क्यों बनते हैं इंद्रधनुष जाने कारण

0 13

इंद्रधनुष तो आप सबने भी देखा ही होगा. बरसात के दिनों में अक्सर इंद्रधनुष नजर आ जाते हैं. इंद्रधनुष में सात रंग होते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि बारिश के बाद इंद्रधनुष क्यों बनते हैं. असल में इसके पीछे एक गहरा रहस्य है. आपको बता दें कि सूर्य के प्रकाश में सात रंग मौजूद होते हैं- बैंगनी, नीला, आसमानी, हरा, पीला, नारंगी और लाल जिसे संक्षेप में ‘बैनीआहपीनाला’ कहा जाता है. इन रंगों का पता प्रिज्म के जरिए चलता है.

जिन लोगों ने विज्ञान पढ़ी है, वह इस बात को जानते होंगे. इंद्रधनुष प्रकृति का प्रिज्म है. दरअसल पानी की छोटी बूंदें पारदर्शी प्रिज्म का काम करती है. जब इन छोटी-छोटी बूंदों से सूर्य का प्रकाश गुजरता है तो यह प्रकाश अलग-अलग सात रंगों में बंट जाता है और हमें इंद्रधनुष के रूप में दिखाई देने लगता है. इंद्रधनुष में लाल रंग सबसे ऊपर, जबकि बैगनी रंग के प्रकाश की पट्टी सबसे नीचे होती है.

आपने कभी गौर किया हो तो आकाश में कभी-कभी एक नहीं बल्कि दो-दो इंद्रधनुष दिखाई पड़ते हैं. एक ही जगह मौजूद बारिश की बूंदों के बार-बार धूप के संपर्क में आने पर दो इंद्रधनुष दिखाई देने लगते हैं. इसकी प्रक्रिया ऐसे होती है कि पहले इंद्रधनुष से निकली रंगीन रोशनी जैसे ही सफेद में बदलती है, वैसे ही उसका संपर्क बारिश की दूसरी बूंदों से हो जाता है और प्रकाश फिर से अलग-अलग रंगों में विभाजित हो जाता है. लेकिन इसका क्रम उल्टा होता है. इस तरह एक सीधा और एक उल्टा इंद्रधनुष दिखाई देता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.