Loading...

सरकार कर रही है मदद! यदि आप भी जाना चाहते हैं अपने घर तो यहां मिलेंगे साधन, फोन करके प्राप्त करें सारी जानकारी..

0 8
जैसा कि आप सभी जानते हैं कोरोना वायरस के मामले आए दिन बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में देश की आर्थिक स्थिति साथ ही गरीब तबके के लोगों की हालात भी काफी बुरी चल रही है। ऐसे में लाॅकडाउन में काम धंधा बनने बंद होने के चलते बाहरी राज्यों में रह रहे मजदूर और गरीब वर्ग के लोगों को सरकार काश मदद कर रही है।
इनकी मदद के लिए सरकार ने हेल्पलाइन भी शुरू की है। यह हेल्पलाइन नंबर देशभर में काम कर रही है। इन नंबरों पर प्रवासी मजदूर और समस्या शिकायतों अधिक की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। आपको बता दें कि यह हेल्पलाइन नंबर मुख्य श्रम आयुक्त के अंतर्गत शुरू किया गया है। यह पूरी तरह निशुल्क है।
आपको बता दें कि सभी दूरसंचार ऑपरेटरों के लिए इस नंबर पर पहुंच उपलब्ध कराना काफी आवश्यक है। विभाग ने इस बात की पुष्टि की है कि यह टोल फ्री नंबर नहीं होगा यदि आप 14445 नंबर पर कॉल करते हैं तो आपका पैसा जरूर कटा जाएगा।
Loading...
दूरसंचार विभाग ने आपात हेल्पलाइन के लिए दो नंबर 1930 और 1944 को जारी किया है। केंद्र के साथ राज्य सरकार भी अपने श्रमिकों की घर वापसी के लिए कई प्रयास करती नजर आ रही है। घर पहुंचे लोगों को एक तरफ जहां मनरेगा से काम चलाया जा रहा है।
वहीं दूसरी ओर अन्य योजनाओं पर अमल काफी तेज कर दिया है, ताकि लोग आराम से रोजगार प्राप्त कर अपने रोजी चला सकें।
इतना ही नहीं सरकार द्वारा रेलवे में भी छूट दे दी गई है  रेलवे ने 1 मई से समय ट्रेनों की शुरुआत कर दी है जो अब तक 23 लाख से अधिक प्रवासी कामगारों को उनके मूल स्थानों तक पहुंचाने का काम कर रही है।कोविद-19 के इस भीषण हालात में 25 मार्च से यात्री मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों की सुविधाओं को निलंबित कर दिया गया था। वहीं अब 12 मई से 15 जोड़ी विशेष वातानुकूलित ट्रेन है सूखी जा रहे हैं।
वहीं 1 जून से 200 और नॉन एसी स्पेशल ट्रेनें भी शुरू कर दी जाएंगी।
भारतीय रेलवे ने इस बात की जानकारी दी कि देशभर में मंगलवार को 204 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से 2.56 लाख यात्रियों को उनके मूल निवास पहुंचाया जा चुका है। जो 1 मई से 1 दिन में यात्रियों की सबसे ज्यादा जाने वाली संख्या है।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.