Loading...

ये है वो ‘रहस्यमय’ गुफा, जहां है एक भूलभुलैया, अंदर जाने के बाद बाहर निकलना हो जाता है मुश्किल

0 20

भारत में ऐसी कई सारी जगह है। जो रहस्यों के कारण जानी जाती हैं। एक ऐसी ही जगह मेघालय में भी है। दरअसल साल 2016 में यहां वैज्ञानिकों ने एक रहस्यमई गुफा खोज निकाली थी। जिससे बलुआ पत्थरों की दुनिया की सबसे लंबी गुफा कहा जाता है। भयानक दिखने वाली इस गुफा में कई सारे प्रवेश द्वार है। जो किसी भूल भुलैया से कम नहीं है। गुफा के अंदर अगर एक बार भी भूल जाता है तो उसका बाहर निकलना बेहद मुश्किल सा होता है।

इस गुफा का नाम क्रेम पुरी है और यह 24 किलोमीटर लंबी गुफा है। धरती पर सर्वाधिक बारिश के लिए मशहूर मासिनराम की हरी-भरी वादियों में 13 वर्ग किलोमीटर में फैली है। इस गुफा की खोज किस वैज्ञानिक ने की थी जिसमें भू विज्ञानी जल विज्ञानी जीव विज्ञानियों पुरातत्व विदो भी शामिल थे।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक इस गुफा के अंदर आपस में जुड़े सैकड़ों छोटे लंबे गलियारों का पेचीदा चक्रव्यू है। जिसकी आकृति बिल्कुल अलग है जो इसे वास्तव में भूल भुलैया बनाती है। यहां प्रचुर मात्रा में जींस मेंढक मछली विशाल हंटर मकड़ी और चमगादड़ भी मौजूद है।

वैज्ञानिकों को इस गुफा से व्हेल के दांत और समुद्री डायनासोर की कुछ अस्थियां भी मिली थी जो करीब छह करोड़ साल पहले समुद्र में पाए जाते थे।

Loading...

इस गुफा में तापमान हमेशा 16 से 17 डिग्री के बीच ही बना रहता है। बाहर का तापमान कुछ भी हो गया ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है क्योंकि छोटी दरारों और दो प्रवेश द्वार से होकर हमेशा हवा अंदर की तरफ बनी रहती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.