Loading...

लॉक डाउन में बुरे हालातों से गुजर रहे मजदूरों के लिए गुलजार ने लिखी सुंदर कविता..

0 2
जैसा कि आप सभी जानते हैं देश भर में Covid-19 संक्रमण के चलते लॉक डाउन बना हुआ है। इतना ही नहीं, देश में यह लोग डाउन का चौथा चरण चल रहा है। इस बीच गरीबों और मजदूरों को काफी आर्थिक संकटों का सामना करना पड़ रहा है। इतना ही नहीं अपने घरों तक जाने के लिए उन्हें पैदल यात्रा करनी पड़ रही है।

सैकड़ों और हजारों मजदूर अपने घरों तक पहुंचने के लिए 400 से 500 किलोमीटर पैदल चलकर घर पहुंचने का एकमात्र सहारा अपना रहे हैं।

ऐसे में सड़क पर उतरे बेरोजगारी और लाचारी की मार झेल रहे मजदूरों के लिए मशहूर लेखक गुलजार साहब ने बेहद ही खूबसूरत कविता के माध्यम से उनकी इस परिस्थिति को दर्शाया है।

Loading...

Migrating/Covid-19

महामारी लगी थीघरों को भाग लिए थे सभी मज़दूर, कारीगर.मशीनें बंद होने लग गई थीं शहर की सारीउन्हीं से हाथ पाओं चलते रहते थेवगर्ना ज़िन्दगी तो गाँव ही में बो के आए थे.वो एकड़ और दो एकड़ ज़मीं, और पांच एकड़कटाई और बुआई सब वहीं तो थीज्वारी, धान, मक्की, बाजरे सब.वो बँटवारे, चचेरे और ममेरे भाइयों सेफ़साद नाले पे, परनालों पे झगड़ेलठैत अपने, कभी उनके.वो नानी, दादी और दादू के मुक़दमे.सगाई, शादियाँ, खलियान,सूखा, बाढ़, हर बार आसमाँ बरसे न बरसे.मरेंगे तो वहीं जा कर जहां पर ज़िंदगी है.यहाँ तो जिस्म ला कर प्लग लगाए थे !निकालें प्लग सभी ने,‘ चलो अब घर चलें ‘ – और चल दिये सब,मरेंगे तो वहीं जा कर जहां पर ज़िंदगी है !– गुलज़ार–[English Translation by Rakhshanda Jalil]Migrants, COVID-19The pandemic ragedThe workers and labourers fled to their homesAll the machines ground to a halt in the citiesOnly their hands and feet movedTheir lives they had planted back in the villagesThe sowing and the harvesting was all back thereOf the jowar, wheat, corn, bajra – all of itThose divisions with the cousins and brothersThose fights at the canals and waterwaysThe strongmen, hired sometimes from their side and sometimes from thisThe lawsuits dating back to grandparents and grand unclesEngagements, marriages, fieldsDrought, flood, the fear: will the skies rain or not?They will go to die there – where there is lifeHere, they have only brought their bodies and plugged them in!They pulled out the plugs‘Come, let’s go home’ – and they set offThey will go to die there – where there is life.Link : https://theprint.in/features/of-course-the-migrant-labourers-will-go-back-home-for-that-is-where-their-lives-are-gulzar/423524/

Gulzar ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಭಾನುವಾರ, ಮೇ 17, 2020

गुलजार की है कविता इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। अपने पांच दशकों के लंबे सफर में गुलजार हिंदी सिनेमा का सबसे बड़ा नाम माने जाते हैं। फिल्मों में लिखें डायलॉग से लेकर अपनी कहानियों स्क्रीनप्ले और गाना तक में उनकी कलम हमेशा ही अपना जब चलाती दिखाई देती है। इसी के चलते उनकी यह कविता भी हजारों और लाखों लोगों को प्रेरणा देती नजर आ रही है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.