Loading...

सरकार की इस योजना से ग्रामीण महिलाएं भी कर सकती है कारोबार, जानें किन कामों के लिए मिल सकता है लोन..

0 22

जैसा कि आप सभी जानते हैं मोदी सरकार के कार्यकाल में आते ही महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कई ऐसे प्रयास किए गए हैं। महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के मकसद से सरकार समय-समय पर कई ऐसी योजनाएं शुरु करती है, जिनके माध्यम से महिलाएं सशक्तिकरण के मार्ग पर चल पाएं।

इन योजनाओं से महिलाओं को बहुत ही कम दरों पर लोन दिया जाता है। इसी कड़ी में गांव की महिला विधवा और कमजोर वर्ग की महिलाओं को एक अच्छी आमदनी जुटाने में मदद करने के लिए सरकार ने महिला विकास ऋण योजना को शुरू किया था।

 

इस योजना को राज्य के सहकारी भूमि विकास बैंकों के माध्यम से शुरू किया गया है। इस योजना के अंतर्गत महिलाओं को कुटीर उद्योग, हस्तशिल्प, ग्रामीण उद्योग, दिल्ली के काम के लिए कर्ज मुहैया कराया जाता है।

Loading...
सहकारी बैंक से प्राप्त करके महिलाएं चूड़ी बनाना, मिट्टी के बर्तन बनाना, कसीदा, कढ़ाई, खिलौने बनाना, बुनाई का काम, टेलरिंग, ब्यूटी पार्लर, चटाई बनाना, ज़री का काम और चमड़ा उद्योग आदि के लिए कर्ज ले सकती हैं।  इसके अलावा महिलाओं को दो मुर्रा भैंस या गाय या एक मुर्गा भैंस और एक संकर गाय पालन के लिए भी दिया जाता है। महिला विकास योजना के अंतर्गत महिलाओं को काम करने के लिए 50 हजार का लोन दिया जाता है।
यदि बात की जाए इस तरह के लोन को प्राप्त करने के लिए क्या क्या शर्ते होंगी तो आपको बता दें कि महिला सहकारी भूमि विकास बैंक की कार्य सीमा की निवासी होना अति आवश्यक है। प्राप्त करने के लिए दो व्यक्तियों को जमानत भी देनी होती है। जमा देने वाले व्यक्तियों के लोन मुक्त अचल संपत्ति होना आवश्यक है। संपत्ति के कागजात जमानत के तौर पर बैंक में दिए जाने होंगे।
यदि बात की जाए इस कर्ज को लेने के लिए आपको क्या करना होगा तो बता देंगे कर्ज लेने के लिए सहकारी भूमि विकास बैंक की शाखा में आपको आवेदन के साथ एक फॉर्म भरकर जमा करना होता है। एप्लीकेशन के साथ दुष्कर्म करने जा रहे हैं। उसकी लागत का ब्यौरा जमानत के बारे में घोषणा पत्र और मालिकाना हक वाले कागज देना अनिवार्य होगा।
आपको बता दें कि इस तरह के लोन में महिला विकास योजना के अंतर्गत आपको 50 हजार रुपए का लोन दिया जाएगा। साथ ही जो वस्तु खरीदी जा रही है, उसकी कीमत का 90% लोन किया जा सकता है।
इतना ही नहीं कर्ज चुकाने की समय अवधि की बात की जाए तो कर चुकाने का समय 5 वर्ष तय किया गया है। इसमें 3 महीने का ग्रेस पीरियड भी शामिल है। कल का भुगतान मासी और तिमाही क़िस्तों के आधार पर किया जा सकता है। इस तरह आप अपने नजदीकी सहकारी बैंक से आसान शर्तों पर अपने लिए कर्ज प्राप्त कर सकते हैं।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.