Loading...

मोदी सरकार की किसान विकास पत्र स्कीम से होगा 110 महीनों में आपका पैसा दुगना, जानें इसके फायदे..

0 7
मोदी सरकार द्वारा कई ऐसी स्कीमों का शुरुआत की गई है, जिन से एक आम आदमी को कम लागत में अच्छे रिटर्न का फायदा मिल सके। आज हम आपको सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एक ऐसी ही सेविंग की जानकारी देने जा रहे हैं। यह एक स्मॉल सेविंग स्कीम है।
हाल ही में केंद्र सरकार ने छोटी बचत योजनाओं पर अपनी ब्याज दरों को कम कर दिया है, लेकिन इसके बाद भी यह योजनाएं बाकी योजनाओं से काफी बेहतर हैं। सरकारी गारंटी द्वारा इस योजना में निवेश करने पर किसी भी प्रकार का जोखिम नहीं होता है।
जिस स्कीम कि हम यहां बात कर रहे हैं वह सरकार द्वारा चलाई गई किसान विकास पत्र स्कीम है। मोदी सरकार ने जून तिमाही के लिए किसान विकास पत्र पर मिलने वाली ब्याज दरों को 6.9% कर दिया है। यह छोटी बचत योजना है जोकि कम बचत वाले लोगों के लिए काफी प्रचलित है। इसे आप किसी भी डाकघर में जाकर खरीद सकते हैं। इसकी शुरुआत 1000 रुपए के निवेश से की जाती है।
Loading...
आपको बता दें कि थोड़े ही समय पहले वित्त मंत्रालय ने एक नोटिफिकेशन जारी किया था। इस नोटिफिकेशन में किसान विकास पत्र पर मिलने वाली ब्याज की कटौती के बारे में घोषणा की गई थी। सरकार ने 3 महीनों के लिए पोस्ट ऑफिस की छोटी स्मॉल सेविंग स्कीमों पर ब्याज दरें घटा दी गई है। वहीं किसान विकास पत्र पर ब्याज दर को 7.6% से घटाकर 6.9% कर दिया है।
यदि बात की जाए निवेश राशि और निवेश समय की तो आपको बता दें कि इस स्कीम में आपको 9 साल 2 महीने यानी कि एक 10 महीने के लिए निवेश करना होता है। जिसमें आपका पैसा डबल हो जाता है। थोड़े ही समय पहले हुए बदलावों के चलते इस निवेश की समय सीमा 110 महीने कर दी गई है, लेकिन पहले यह तो 13 महीने यानी कि 9 साल 5 महीने तक चलाई जाती थी।
जैसा कि हमने अभी आपको बताया कि आप अपने किसी भी नजदीकी पोस्ट ऑफिस से इस स्कीम यानी कि किसान विकास पत्र को खरीद सकते हैं। वहीं इसमें एक साथ दो लोग यानी कि जॉइंट भी इसको खरीदा जा सकता है। इस स्कीम को खरीदने के लिए आपको दो पासपोर्ट साइज फोटो पहचान पत्र निवास प्रमाण पत्र आदि की आवश्यकता होगी। इस स्कीम को लेने के लिए आपको पैन कार्ड की आवश्यकता तब पड़ती है। जब आप इस स्कीम को 50 हज़ार रुपए से ज्यादा में खरीदते हैं।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.