Loading...

Central Bank of India की इस स्कीम में 595 रुपए के निवेश से आप भी बन सकते हैं लखपति, जानें पूरी प्रक्रिया..

0 48
सरकार ही नहीं बैंकों द्वारा भी कई ऐसी योजनाएं जारी की जा रही है, जिनमें निवेश करके एक आम व्यक्ति भी लखपति बनने का सपना देख सकता है। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने एक ऐसी ही स्कीम जारी की है, जिसमें कम मेहनत में आप एक मोटी कमाई कर अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं।
यदि आप अपनी बचत को एक सही समय पर एक अच्छी जगह निवेश करना चाहते हैं और एक बेहतर रिटर्न की आशा भी रखते हैं तो यह प्लान आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है।
जिस योजना के बारे में हम बताने जा रहे हैं। उसमें कम समय में ही आपको लखपति बन सकते हैं। यह योजना सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने जारी की है, जिसमें केवल हर महीने 595 रुपए के निवेश से आप अपना लखपति बनने का सपना तो साकार कर ही सकते हैं।
Loading...
जिस योजना कि हम यहां बात कर रहे हैं वह सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया कि ‘जब चाहो लखपति बन जाओ’ स्कीम है। 10 साल से ज्यादा उम्र वाला कोई भी अब व्यस्त अपने अभिभावक के साथ संयुक्त रूप से इसमें निवेश कर सकता है। इस स्कीम में ग्राहकों को एक से लेकर 10 साल तक निवेश की सहूलियत दी जाती है, जिसका मतलब यह है कि ग्राहक अपने बजट के हिसाब से मेच्योरिटी पीरियड और प्रीमियम टर्म को सुन सकता है।
यदि आप इस साल में लखपति बनना चाहते हैं तो आपको साल में 8,040 रुपए का प्रीमियम भरना होगा। इतना ही नहीं, यदि आप 595 का प्रीमियम हर महीने भरते हैं तो 10 साल में लखपति हो जाएंगे। 10 साल तक नियमित रूप से प्रीमियम भरने के बाद मेंच्योरिटी पर आपको एक लाख रुपए से ज्यादा का रिटर्न प्राप्त होगा।
इस साल वाले प्लान में वर्तमान समय में 6.65% के हिसाब से ब्याज दर दी जा रही है। वहीं 10 साल वाले प्लान में 6.45 प्रतिशत के हिसाब से ब्याज दर दी जाती है। इसमें ध्यान योग देने योग्य बात यह है कि नए खातों के लिए मासिक टेस्ट में परिवर्तित कर दिया जाता है।
बैंक की आधिकारिक वेबसाइट से मिली जानकारी के हिसाब से मैच्योरिटी पर मिलने वाली राशि पर आयकर नियमों के अनुसार टीडीएस की भी कटौती की जाती है। यदि देर से प्रीमियम भरा जाता है तो इसमें ग्राहक पर पेनल्टी भी लगाई जाएगी खाताधारक इंटरनेट बैकिंग या उससे जारी पासबुक के माध्यम से भी खाते की समय-समय पर जांच कर सकते हैं।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.