Loading...

पूजा कमरें के आस-पास बिल्कुल भी नहीं होनी चाहिए ये सभी चीज़ें, जीवन पर पड़ता है बुरा असर

0 225

घर में बने पूजा स्थल का विशेष महत्व होता है। यह कैसा स्थान होता है। जहां पर सबसे ज्यादा शांति और सकारात्मक ऊर्जा होती है। शास्त्रों में घर पर बने पूजा स्थल के बारे में नियमित रूप से बताया गया है इसका ध्यान रखना बेहद जरूरी माना गया है।

शास्त्रों में इस बात को बताया गया है कि घर में एक ही भगवान के दो मूर्ति नहीं होनी चाहिए। शास्त्रों में ऐसा होने से शुभ कार्य को करने में परेशानी आती है कि जहां तक संभव हो एक भगवान की एक ही तस्वीर रखनी चाहिए।

घर का पश्चिम और दक्षिण दिशा वास्तु शास्त्र के नियम से अशुभ फल का कारण बनता है। इसलिए पूजावा घर के पूर्व या उत्तर दिशा में ही होना चाहिए।

घर का पूजा का स्थान ना तो शौचालय के पास बना हो और ना ही रसोई घर में इसके अलावा सीढ़ियों के नीचे कभी भी मंदिर नहीं बनवाना चाहिए।

Loading...

वैसे तो घर के मंदिर में शिवलिंग को रखना वर्जित माना गया है। लेकिन अगर शिवलिंग रखा ही है तो उसका आकार अंगूठे के आकार से बड़ा नहीं होना चाहिए।

हिंदू धर्म में खंडित मूर्तियों को भी पूजा स्थल पर रखना अच्छा नहीं माना गया है। इसलिए पूजा घर में कभी भी ऐसी मूर्तियों को नहीं रखना चाहिए जो खंडित हो।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.