Loading...

शनि ग्रह पर आखिर क्यों नहीं रह सकते इंसान, रहस्य को जानकर हैरान रह जाएंगे आप

0 19

अक्सर बड़े बुजुर्ग नेता कहते हैं कि शनि ग्रह की कुदृष्टि जिस पर पड़ती है उसके बुरे दिन शुरू हो जाते हैं. शनि ग्रह के कुप्रभाव से जीवन में समस्या नहीं लगती हैं. लेकिन आपको बता दें कि शनि ग्रह सौरमंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह है. यह ग्रह पृथ्वी से 9 गुना बड़ा है जिसे एक गैस दानव कहा जाता है. लेकिन इस ग्रह पर इंसान नहीं रह सकते. पर क्यों, इसके पीछे बड़ा कारण है.

शनि ग्रह पर 1800 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चलती हैं. यानी पृथ्वी की अपेक्षा 5 गुना तेज हवा चलती है, जिससे इंसानों का रह पाना बिल्कुल भी संभव नहीं है.

इस ग्रह का तापमान – 178 डिग्री सेंटीग्रेड रहता है और ऐसे में इंसान नहीं रह सकता. इस ग्रह को नग्न आंखों से देखा जा सकता है. यह सौरमंडल की पांचवीं सबसे चमकीली वस्तु है.

Loading...

शनि ग्रह का वायुमंडल 96 फ़ीसदी हाइड्रोजन व 4 फीसदी हीलियम से निर्मित है. इसके अलावा इसमें अमोनिया, फास्फीन, मीथेन, एथेन जैसी गैस पाई जाती हैं.

यह ग्रह सूर्य के चारों ओर एक चक्कर 29.4 पृथ्वी वर्ष में लगाता है. इस ग्रह पर दिन छोटे होते हैं. लेकिन पृथ्वी की तुलना में इस ग्रह पर वर्ष बहुत लंबे होते हैं.

शनि ग्रह का चुंबकीय क्षेत्र बहुत शक्तिशाली है. इस ग्रह पर पृथ्वी की अपेक्षा चुंबकीय क्षेत्र 578 गुना शक्तिशाली है.

इस ग्रह पर मौसम शनि ग्रह द्वारा उत्पन्न की गई गर्मी से बदलता है. इस ग्रह का तापमान सूर्य पर निर्भर नहीं करता.

अब तक 4 अंतरिक्ष यान शनि ग्रह का दौरा कर चुके हैं. शनि ग्रह का आंतरिक भाग बहुत गर्म है जिसका तापमान 11700 डिग्री सेंटीग्रेड तक पहुंच जाता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.