Loading...

शर्मिला टैगोर ने नवाब पटौदी से शादी के लिए अपनाया इस्लाम धर्म , जानिए कैसी थी दोनों की लव स्टोरी

0 11

गुजरे जमाने की अदाकारा शर्मिला टैगोर 8 दिसंबर को अपना जन्मदिन मानती हैं। आपको बता दें कि 70 से 80 के दशक की इस अदाकारा ने कई सारी हिट फिल्मों में काम किया है। फिल्म कश्मीर की कली ने शर्मिला के करियर को बुलंदियों पर पहुंचा दिया था। शर्मिला का जन्म एक बंगाली परिवार में हुआ था उनके पिता का नाम गजेंद्र नाथ टैगोर था। जो कि टैगोर मिलते ब्रिटिश इंडिया कंपनी के महाप्रबंधक थी। आपको बता दें कि शर्मिला ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1959 से की थी।

शर्मिला ने अपने जीवनसाथी के रूप में मशहूर क्रिकेटर और भारतीय टीम के कप्तान रहे मंसूर अली खान पटौदी को चुना था। मंसूर अली खान पटौदी से शर्मिला की पहली मुलाकात कोलकाता के घर में हुई थी। पटौदी अपने दोस्त के साथ एक कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए पहुंचे थे।

शर्मिला जब नवाब पटौदी को देखते ही फ़िदा हो गई थी तो वहीं अब आप भी शर्मिला की मुस्कान पर कायल थे। आपको बता दें कि दोनों के बीच मुलाकातों का सिलसिला बढ़ने लगा था और देखते ही देखते यह दोनों एक दूसरे के काफी ज्यादा करीब आ गए थे। शादी के वक्त लोगों के द्वारा अटकलें लगाई जा रही थी कि शर्मिला की फिल्मों में बोल्ड इमेज को लेकर पटौदी खानदान शायद उन्हें स्वीकार नहीं करेगा और दोनों के धर्म भी अलग-अलग थे। हालांकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। दोनों ने सहमति से शादी की। बस शर्मिला को शादी के बाद इस्लाम धर्म को अपनाना पड़ा था।

Loading...

पटौदी और शर्मिला टैगोर की रोमांचक और मजेदार किस्सा है। दरअसल शुरुआती दिनों में पटौदी ने शर्मिला टैगोर को गिफ्ट में रेफ्रिजरेटर दिया था। उस समय भी उपहार के रूप में देना एक बहुत बड़ी बात होती थी। इतना ही नहीं पड़ती शर्मिला को समय-समय पर फूल और लिख लिख कर भेजते थे।

इसके अलावा एक किस्सा यह भी मशहूर है कि क्रिकेट के मैदान पर नवाब पटौदी शर्मिला का स्वागत छक्का लगाकर करते थे।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.