Loading...

पति-पत्नी गरीबी में कर रहे थे अपना गुजारा, अचानक ही पति को मिल गया खजाना, बहुत सारा धन होने के बावजूद भी पत्नी ने छोड़ दिया पति का साथ, एक साधारण से व्यक्ति ने उसे समझाई उसकी सबसे बड़ी

0 171

एक गांव में गरीब और उसकी पत्नी एक साथ रहती थी। वह दोनों रात भर मेहनत करके अपने लिए भोजन का इंतजाम करते हैं। सुबह के वक्त वह खेतों में मजदूरी कर दें एवं सूखी लकड़ियों और पत्तों को इकट्ठा करके उन्हें बेचते थे। ऐसा करके अपना गुजारा करते थे। पत्नी को अपने जीवन से संतुष्टि थी। लेकिन पति हमेशा दुखी रहता था। वह अपने दोस्तों और रिश्तेदारों का जीवन देखकर बहुत ही निराश होता था। उसके मन में विचार आता था कि वे आराम से जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

अचानक की किसान की किस्मत पलट गई। वह एक बार जंगल में लकड़ी लेने गया तो उसे जंगल के बीचो-बीच गुफा दिखाई दी। गुफा में अंधेरा था। उसने हिम्मत जुटाकर गुफा में प्रवेश किया। जब वह गुफा में घुसा तो उसको देखकर बिल्कुल भी यकीन नहीं हुआ, क्योंकि गुफा के अंदर खजाना था। उसने गुफा को पत्थर, मिट्टी और पत्तों से ढक दिया।

बाद में वह पूरा खजाना धीरे-धीरे करके बैलगाड़ी से अपने घर ले आया है। उसकी पत्नी शुरुआत में थोड़ा धन देखकर खुश हो गई। लेकिन जब वह बहुत सारा धन ले आया तो उसकी पत्नी ने रोक दिया। पत्नी ने कहा इतना सारा धन इकठ्ठा करना ठीक नहीं है। अपने पास उतना ही धन रखिए जिससे कि हमारा जीवन कट जाए।

लेकिन किसान को धन का लालच था। किसान ने नया घर खरीद लिया, जहां पर नौकर काम करते थे। अब उसका पूरा खजाना घर में सुरक्षित था। उसके अमीर होने की बात दूर दूर तक फैल गई। बहुत सारे लोग उसके पास रिश्तेदारियां निकाल कर आने लगे। लेकिन धनवान होने की वजह से उसमें कई सारी बुरी आदतें आ गई। वह अय्याशी करने लगा। इसकी वजह से उसकी पत्नी भी दूर हो गई। लेकिन उसको कोई दुख नहीं हुआ। दिन पर दिन उसकी अय्याशी बढ़ती गई।

Loading...

1 दिन ही वह अचानक से बीमार हो गया। अब उसे हर छोटी छोटी चीजों के लिए नौकरों पर निर्भर रहना पड़ता था। जब वह ठीक हुआ तो नगर में घूमने निकल गया। उसने सोचा की आज में भेश बदलकर लोगों से अपने बारे में जानना चाहता हूं। वह मेरे बारे में क्या सोचते हैं। उसने एक किसान से पूछा कि तुम्हारा अमीर आदमी के बारे में क्या सोचना है।

किसान ने कहा कि वह बहुत ही बदकिस्मत है क्योंकि वह बहुत ही अमीर है। लेकिन उसके पास उसका कोई भी अपना नहीं है, जो इसमें धन का लाभ उठा पाए। जब वह गरीबी में रहता था तो उसकी पत्नी साथ रहती थी। लेकिन जब वह अमीर हो गया तो उसकी पत्नी भी उससे दूर हो गई। अब उसको छोटे-छोटे कामों के लिए भी नौकरों पर निर्भर रहना पड़ता है।

यह सुनकर के अमीर व्यक्ति को अपनी गलती समझ आ गई। वह अपनी पत्नी के घर चला गया और उसने कहा कि मैं सारा धन दान दे दूंगा। ऐसा करके वो अपनी पत्नी को घर ले आया। अब उसने आवश्यक धन रख कर सारा धन दान कर दिया।

कहानी की सीख

इस कहानी से हमें देखने को मिलती है कि धन की आवश्यकता तो होती है। लेकिन धन से ज्यादा महत्व रिश्तो को देना चाहिए। पति और पत्नी के बीच प्रेम होना बहुत ही आवश्यक होता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.