Loading...

रजत शर्मा बोले- डीडीसीए है भ्रष्टाचार का अड्डा, जल्द सामने आएगा असली चेहरा

0 2

रजत शर्मा ने डीडीसीए के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देते हुए यह कहा था कि ईमानदारी और अपने उसूलों के साथ डीडीसीए के साथ काम करना बिल्कुल भी संभव नहीं है. उन्होंने यह भी उम्मीद जताई कि इस कदम से संघ के हितधारकों को चेतावनी मिलेगी. रजत शर्मा पिछले साल जुलाई में डीडीसीए के अध्यक्ष बने थे.

लेकिन उन्होंने इस्तीफा देते हुए कहा कि मैंने पारदर्शी तरीके से विवादित संघ को चलाने की पूरी कोशिश की. लेकिन अब वो अपना इस्तीफा देकर डीडीसीए का असली चेहरा सबके सामने उजागर करना चाहते हैं. रजत शर्मा ने यह भी कहा कि आज भी डीडीसीए से कुछ ऐसे लोग जुड़े हुए हैं जिनकी दिलचस्पी अंतरराष्ट्रीय मैचों से पहले अनुबंध और निविदाओं को हासिल करने में रहती है. वह खिलाड़ियों के चयन में भी दखलंदाजी करते हैं.

इस्तीफा लोगों के लिए खतरे की घंटी

रजत शर्मा ने यह भी कहा कि उनका इस्तीफा खतरे की घंटी है, ताकि उच्चतम न्यायालय, क्रिकेटरों और बीसीसीआई सहित सभी हित धारकों को पता चल सके कि डीडीसीए में इस तरह के निहित स्वार्थ से जुड़े लोग हैं. उन्हें भविष्य की कार्रवाई करनी चाहिए. रजत शर्मा ने कहा कि वह आराम से अपने पद पर 2 साल तक बने रह सकते थे. लेकिन वह लोगों को इस बात से अवगत कराना चाहते थे. वह किसी भी कीमत पर इमानदारी के साथ समझौता करके इस पद पर काम नहीं करेंगे.

Loading...

रजत शर्मा के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद डीडीसीए में इस्तीफों की लाइन लग गई है. उनके इस्तीफा देने के कुछ समय बाद ही सीईओ रवि चोपड़ा, क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) के दो सदस्यों सुनील वाल्सन और यशपाल शर्मा ने भी अपना पद छोड़ दिया.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.