Loading...

विराट कोहली ने फिर दिखाई महानता, अपने स्वार्थ को छोड़ भारतीय टीम के फायदे के लिए किया बड़ा काम

0 1

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली की गिनती मौजूदा समय के महान क्रिकेटरों में होती है. लेकिन कुछ लोग विराट कोहली को स्वार्थी भी कहते हैं. हालांकि विराट कोहली ने पुणे टेस्ट के दौरान साबित किया कि वह स्वार्थी नहीं हैं. बल्कि उनके लिए भारतीय टीम सबसे पहले आती है. बता दें कि विराट कोहली ने पुणे टेस्ट के दौरान अपने रिकॉर्ड की परवाह ना करते हुए भारतीय टीम के फायदे के बारे में सोचा.

पुणे टेस्ट में कोहली ने पहली पारी में 254 रन की नाबाद पारी खेली. जिस तरह से विराट कोहली बल्लेबाजी कर रहे थे उससे तो ऐसा ही लग रहा था कि वह तिहरा शतक भी बना लेंगे. उनके साथ क्रीज पर रविंद्र जडेजा मौजूद थे, जो तेज गति से रन बना रहे थे और शतक पूरा करने के बेहद नजदीक थे. लेकिन रविंद्र जडेजा 91 रन बनाकर आउट हो गए. जडेजा के आउट होते ही विराट कोहली ने पारी घोषित कर दी.

विराट कोहली के पास तिहरा शतक लगाकर कई रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज करने का मौका था. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. विराट ने भारतीय टीम के फायदे के लिए अपने तिहरे शतक की चिंता किए बिना ही पारी घोषित कर दी. विराट कोहली का मानना है कि अगर वह दूसरे दिन का खेल खत्म होने से कुछ समय पहले पारी घोषित करेंगे तो इससे विरोधी टीम के बल्लेबाजों का विकेट लेने में भारतीय गेंदबाजों को आसानी होगी, जिससे भारतीय टीम यह मैच जीत सकती है. इसी वजह से विराट कोहली ने अपने तिहरे शतक की परवाह नहीं की और पारी घोषित कर दी.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.