Loading...

बनाना हों बच्चों का भविष्य तो इस योजना में मात्र 200 रु से करें प्लानिंग, मिलेंगे 21 लाख रु

0 32

आज के महंगाई के दौर में बच्चों का भविष्य वित्तीय रूप से सुरक्षित करना मां-बाप की सबसे बड़ी जिम्मेदारियों में से एक है.
दरअसल जब भी बात बच्चों का भविष्य सुरक्षित करने की आती है तो इसके लिए अक्सर बच्चों के माता पिता टर्म इंश्योरेंस, लाइफ इंश्योरेंस, या म्यूचुअल फंड में निवेश करना बेहतर विकल्प समझते हैं. लेकिन इनके अलावा भी एक विकल्प है जो बच्चों के लिए काफी अच्छा है जिसे हम पीपीएफ के नाम से जानते हैं.

दरअसल पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी कि PPF की बात आती है तो आमतौर पर यही खयाल आता है कि नौकरीपेशा लोगों के लिए यह योजना बेहतर है. लेकिन ऐसा नहीं है, यह अकाउंट खोलने के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं है.

जी हां, बता दें कि आप अपने नाबालिग बच्चे के नाम से चाहे उसकी कितनी भी उम्र हो अकाउंट खोल सकते हैं. लेकिन अगर इसे 3 से 4 साल की उम्र के बच्चों के नाम शुरू करते हैं तो इसके फायदे बहुत ज्यादा हैं.

बता दें कि बच्चों के 18 साल की उम्र होने पर खाते का संचालन उन्हें मिल जाता है. दरअसल उसके पहले अभिभावक ही खाते का संचालक होता है. मालूम हो कि बच्चे के 2 या 3 साल होने पर ही यह अकाउंट खोल दें तो उसे 18 की उम्र पूरी होने या नौकरी के लायक होने पर उसे बड़ी रकम भी गिफ्ट कर सकते हैं, जिससे हॉयर एजुकेशन या ऐसी कोई और जरूरतें पूरी हो सकती हैं.

Loading...

PPF पर ब्याज दर: 7.9%

जानकारी के लिए बता दें कि अभी पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी कि PPF पर 7.9 % की दर ब्याज मिल रहा है. दरअसल सरकार ने मौजूदा तिमाही के लिए इसमें किसी तरह का बदलाव नहीं किया है. बता दें कि फिलहाल निवेशकों के लिए बचत का अब भी यह सबसे बेहतर और सुरक्षित विकल्पों में हैं, जहां एफडी से पहले आपका पैसा डबल हो जाता है.

200 रु रोज का कैलकुलेशन

बता दें कि यदि बच्चे के नाम से रोज 200 रुपये की बचत करें तो यह एक महीने में 6000 रुपये हो जाएंगे जो एक साल के 72 हजार रुपये होते हैं. दरअसल PPF अकाउंट में या तो मंथली 6000 रुपये जमा कर सकते हैं या पूरे फाइनेंशियल के लिए एक बार में 72000 रुपये.

मालूम हो कि 15 साल तक इसी तरह निवेश करने पर अगर मौजूदा ब्याज दर 7.9 % सालाना के हिसाब से रिटर्न मिले तो यह रकम कंपाउंडिंग की मदद से मेच्योर होकर 21 लाख रुपये हो जाएगा. जबकि वहीं आपका कुल निवेश 10.80 लाख ही होगा.

बच्चों के नाम अकाउंट के ये हैं फायदे

आपको बता दें कि PPF में लॉक इन पीरियड 15 साल का होता है. अब ऐसे में मान लीजिए कि अकाउंट खोलते समय आपका बच्चा 3 साल का है. तो जब वह 18 साल का होगा, अकाउंट मेच्योर हो जाएगा.

दरअसल उस दौरान वह अकाउंट का संचालन खुद करने लायक हो जाएगा. जरूरत पड़ने पर वह पैसे निकाल सकेगा. वहीं, अगर उसे आगे बढ़ाना है तो चह 5 साल और खाते को जारी रख पाएगा. बता दें कि, अगर वह 18 साल की उम्र में अकाउंट खेलवाता तो उसे अगले 15 साल मेच्योरिटी का इंतजार करना पड़ता.

इस तरह खुलेगा अकाउंट

मालूम हो कि PPF अकाउंट डाकघर या अधिकृत किसी भी बैंक की शाखा में खुलवाया जा सकता है. जी हां, दरअसल पीपीएफ खाता खुलवाने के लिए पीपीएफ अकाउंट ओपनिंग फॉर्म में माता-पिता को बच्चे का ब्योरा देना पड़ता है.

बता दें कि इस फॉर्म में बच्चे की फोटो के साथ पैरेंट्स के जरूरी डॉक्यूमेंट्स, बच्चे का बर्थ सर्टिफिकेट देना होता है. दरअसल खास बात यह है कि यह अकाउंट 100 रुपये से खुल जाता है हालांकि इसमें एक वित्त वर्ष में कम से कम 500 रुपये निवेश करना जरूरी है. साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपए का निवेश किया जा सकता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.