Loading...

अब रेलवे स्टेशनों पर खुलेंगे ‘जनता फ्रिज’, जानिए इसके बारे में सबकुछ

0 3

साउथ वेस्टर्न रेलवे ने हुबली स्टेशन पर 6 फुट ऊंचा फ्रिज लगाया है जिसमें 5 रैक हैं. जी हां, दरअसल इनमें 2 रैक पके हुए खाने को रखने के लिए जबकि 2 रैक फल और सब्जियों को रखने के लिए बनाए गए हैं. इस फ्रिज़ की कीमत 80,000 रुपये है.

दरअसल इसका मूल उद्देश्य ही मुसाफिरों और स्टेशन के फूड कोर्ट में बचे अतिरिक्त भोजन को सुरक्षित रखना है. बता दें कि खास बात ये है कि इस फ्रिजको लगाने के 3 दिन के भीतर ही 100 से ज़्यादा जरूरतमंदों ने इसमें रखे भोजन से अपनी भूख मिटाई है.

यहां आपको बता दें कि कोई भी ज़रूरतमंद व्यक्ति इससे फ्री में खाना लेकर खा सकता है. इसके साथ ही इस फ्रिज में मांसाहारी भोजन को रखने की मनाही भी है, ताकि हर तरह के जरूरतमंद इसके भोजन को खा सकें.

देशभर में खुलेंगे जनता फ्रिज

Loading...

मालूम हो कि इसके साथ ही ऐसे काम को आगे बढ़ाने के लिए NGO से भी संपर्क किया जा रहा है. बता दें कि भारतीय रेल में हर रोज़ करीब 2.5 करोड़ मुसाफिर सफर करते हैं. दरअसल बड़ी संख्या में लोगों के फुट फॉल के साथ ही उनके इस्तेमाल करने के बाद भारी मात्रा में खाने वाले सामानों की बर्बादी भी होती है.

मालूम हो कि इसलिए रेलवे की कोशिश यह है कि इस जनता फ्रिज की योजना का विस्तार किया जाए ताकि देशभर में भोजन की बर्बादी को अपने स्तर पर रोक सके.

दरअसल साउथ वेस्टर्न रेलवे ने इस फ्रिज का प्रचार स्टेशन और आसपास के इलाकों में भी करना शुरू किया है ताकि ज्यादा से ज्यादा भोजन को बचाया जा सके जिससे कि ज़्यादा से ज्यादा लोगों की भूख मिटाई जा सके.

देश में बर्बाद हो जाता है 40 % खाना

भारत एक ऐसा देश है जहां ये एक और भूख की गंभीर समस्या से जूझ रहा है, वहीं दूसरी और देश में बड़े पैमाने पर खाने की बर्बादी की जाती है.

मालूम हो कि संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक भारत में 40 % खाना बर्बाद हो जाता है, जिसकी कीमत करीब 50 हज़ार करोड़ रुपये होती है. बता दें कि इसमें रख रखाव, आबंटन और बचे हुए भोजन को फेंक देना सबसे बड़ा कारण है.

आपने भी यह नोटिस किया होगा कि हम रोज़ाना अपने आस-पास ढेर सारा खाना बर्बाद होते हुए देखते ही हैं. जी हां, दरअसल ख़ासकर शादी, होटल, पारिवारिक और सामाजिक कार्यक्रमों, यहां तक कि घरों में भी बचा हुआ खाना यू हीं फेंक दिया जाता है. आपको बता दें कि अगर ये खाना बचा लिया जाए और ज़रूरतमंदों तक पहुंचा दिया जाए तो कई लोगों का पेट भर सकता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.