Loading...

Google Maps ने जब 4 महीने बाद 12 साल की एक बच्ची को उसके पिता से मिला दिया

0 14

अगर आप कहीं जा रहे हों और आप रास्ते से भटक जाएं तो ऐसी स्थिति में आप गूगल मैप्स के सहारे अपनी दिक्कत का हल ढूंढ सकते हैं लेकिन इसके अलावा भी गूगल मैप्स कई मामलों में काम आता है.

जी हां, दरअसल हाल ही में गूगल मैप्स की मदद से दिल्ली पुलिस ने 12 साल की एक बच्ची को उसके पिता से मिला दिया. दरअसल पुलिस के अनुसार बच्ची 21 मार्च को होली के दिन कीर्ति नगर के पास एक ई-रिक्शा में सवार हुई थी.

बता दें कि एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस संबंध में कहा कि जब बच्ची मेट्रो स्टेशन पर नहीं उतरी तो ई-रिक्शा चालक ने उससे पूछा कि वह कहां जाना चाहती है, लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया. दरअसल वह उसे रात 8 बजकर 33 मिनट पर कीर्ति नगर पुलिस थाने ले गया. मालूम हो कि अधिकारी ने कहा कि शुरुआती जांत के दौरान बच्ची अपना घर याद नहीं कर सकी और उसने केवल यह कहा कि वह “खुर्जा” गांव से है और उसके पिता का नाम जीतन है.

बता दें कि पुलिस ने दिल्ली के खजूरी खास और खुरेजी इलाकों में तलाश की चूंकि इन इलाकों का नाम ‘खुर्जा’ शब्द से मिलता-जुलता है, लेकिन उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दायर कराये जाने की कोई जानकारी नहीं मिली.

Loading...

मालूम हो कि इसके बाद वे मानसिक रूप से कमजोर बच्ची को नजदीकी जेजे कॉलोनी ले गए, लेकिन कोई भी उसे पहचान नहीं पाया. दरअसल पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) मोनिका भारद्वाज ने इस संबंध में कहा कि पुलिस की एक टीम बच्ची को 4 बार उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के खुर्जा गांव ले गई, लेकिन उन्हें उसके परिवार के बारे में कोई सुराग नहीं मिला.

हालांकि इसके बाद पुलिस की टीम जब 31 जुलाई को एक बार फिर खुर्जा ले गई तो वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने उससे उसके गांव के आसपास के इलाकों के नाम पूछे. बता दें कि बच्ची ने बताया कि उसकी मां का गांव सोनबरसा है और उसके गांव के निकट साकापर नामक जगह है.

दरअसल इसके बाद पुलिस को गूगल मैप के जरिये पता चला कि उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले में साकापर, सोनबरसा और “खुर्जा” नाम के गांव हैं. बता दें कि पुलिस ने उसके परिवार का भी पता लगा लिया. दरअसल 1 अगस्त को खुर्जा निवासी उसका पिता जीतन गोरखपुर से दिल्ली आया.

मालूम हो कि जीतन ने इस बारे में बताया कि वह मानव व्यवहार एवं संबद्ध विज्ञान संस्थान यानी कि इहबास में अपनी बेटी का इलाज कराने के लिये दिल्ली आया था. दरअसल उसकी बेटी कीर्ति नगर के निकट जेजे कॉलोनी स्थित उसकी बहन के घर से लापता हो गई थी, लेकिन उसने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई थी.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.