Loading...

सरकार ने दिया रेलवे कर्मचारियों को यह तोहफा, इलाज में नहीं आएगी कोई परेशानी

0 7

भारतीय रेलवे कर्मचारियों और उनके परिवार वालों के इलाज के लिए नई सुविधा प्रदान करने जा रही है, जिसके चलते रेलवे कर्मचारी देश के किसी भी अस्पताल में अपना इलाज करा पाएंगे. रेलवे अपने कर्मचारियों को इसके लिए UMID (Unique Medical Identity Card) कार्ड उपलब्ध कराएगा. रेलवे कर्मचारी अपनी सैलरी के हिसाब से अस्पताल में इलाज करवा सकेगा. अगर आपकी सैलरी अच्छी होगी तो आप प्राइवेट हॉस्पिटल में प्राइवेट रूम ले सकते हैं. लेकिन अगर आपकी तनख्वाह कम है तो फिर आप जनरल वार्ड में भर्ती हो सकते हैं.

रेलवे बोर्ड की संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य स्वास्थ्य द्वितीय एचके संहोत्र के आदेश के अनुसार, रेलवे ने इस योजना के तहत प्राइवेट अस्पतालों से कॉन्‍ट्रैक्‍ट कर लिया है, जिसके चलते कर्मचारियों को अस्पतालों में इलाज के लिए उम्मीद स्मार्ट कार्ड उपलब्ध कराए जा रहे हैं. लेकिन यह आपकी सैलरी पर निर्भर करेगा कि आप अस्पताल में क्या-क्या सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं.

यह है क्राइटेरिया

जिन लोगों की सैलरी 47,600 रुपए है, उनको जनरल वार्ड में इलाज मिलेगा.

Loading...

जिन लोगों की सैलरी 47,601 से 63,100 के बीच है, वह सेमीप्राइवेट वार्ड में अपना इलाज करवा सकेंगे.

वहीं जिन लोगों की आय 63,101 या उससे ज्यादा है, वह प्राइवेट वार्ड में अपना इलाज करवा पाएंगे.

कैसे बनवाएं स्मार्ट कार्ड

रेलवे कर्मचारी और पेंशनर उम्मीद बेवसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं. इसमें आपको कुछ दस्तावेज जैसे- सर्विस नंबर, पैन नंबर, मोबाइल नंबर और अन्य जानकारी देनी होगी, जिसके बाद रेलवे कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों को एक यूनिक स्मार्ट कार्ड मिल जाएगा, जिसे दिखाकर रेलवे कर्मचारी किसी भी अस्पताल में अपना इलाज करवा पाएंगे.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.