Loading...

इस परिवार की हकीकत जान हर कोई रह गया हैरान, बाप ने बेटी तो भाई ने बहन से बनाए संबंध

0 37

ऑस्ट्रेलिया से एक परिवार को लेकर सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है. दरअसल इस परिवार के 38 सदस्य आपस में शारीरिक संबंध बनाते थे, जिसमें कई बच्चे भी शामिल थे. शेड और टैंट के बने मकान में रहने वाले इस परिवार से अथॉरिटी ने 12 अशिक्षित और कुपोषित बच्चों को छुड़ाया है. अथॉरिटी को जिन बच्चों ने छुड़ाया है, वो ज्यादातर मेंटल या फिजिकल रूप से स्वस्थ नहीं है जिन्हें अब चाइल्ड केयर में भेज दिया है. आइए जानते हैं पूरा मामला.

इस संगीन मामले की भनक 2012 में लगी थी. चिल्ड्रेन कोर्ट ने इस फैसले को जनता के सामने लाने का फैसला किया. दरअसल इसका खुलासा तब हुआ जब इस परिवार के एक छोटे बच्चे ने अपने दोस्तों को स्कूल में यह कहा कि उसकी बहन प्रेग्नेंट है. लेकिन इस बात का पता नहीं है कि उसका पिता कौन सा भाई है. बच्चे की फैमिली सेक्स की बातों के कारण पूरा मामला सामने आया. ऑस्ट्रेलिया की न्यू साउथ वेल्स में रहे रहे इस परिवार की सच्चाई ने सबको हिला के रख दिया.

पुलिस नजारा देख दंग रह गई

Loading...

जब इस मामले की भनक पुलिस को लगी तो पुलिस ने इस पूरे मामले की जांच की. जब पुलिस इस घर में पहुंची तो नजारा देखकर पुलिस के होश उड़ गए. पुलिस जिस मकान में थी वहां पर एक भाई बहन बेड पर कपल की तरह सोए हुए थे, दूसरी ओर इस मकान में ना पानी था, ना टॉयलेट और ना ही शावर का कोई बंदोबस्त था. इस मकान के बाहर खुले में बाल्टीयो में यूरिन भरा हुआ था.

अफसरों ने यहां से सेक्सुअल अब्यूज हो रहे कई बच्चों को छुड़ाया जो अपने फैमिली के बड़ों के शिकार थे. इस घर में पिता बेटी के साथ, भाई बहन के साथ, बैटा माता के साथ रिलेशन बनाकर बच्चे पैदा करते हैं. 12 वर्ष की उम्र के लड़के और लड़कियां आपस में फिजिकल रिलेशन बना रहे थे. इस परिवार ने बताया कि पिछली एक शताब्दी से यह सब कुछ चल रहा है. इसकी शुरुआत इस परिवार के मुखिया जॉन कॉल्ट ने की थी जो ऐसे पेरेंट्स से पैदा हुई थी, जो आपस में भाई बहन थे.

कैम्प से निकाले गए ऐसे बच्चे

अधिकारियों ने यहां से जो बच्चे छुड़ाए वह तमाम बच्चे अस्वस्थ थे. इन बच्चों में कुछ तो ऐसे थे जिन्हें अपने दांत साफ करने और टॉयलेट पेपर इस्तेमाल करने के बारे में पता नहीं था. यहां रह रहे बच्चों को बातचीत करने और बाल साफ करने की भी समझ नहीं थी. आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन यहां सिगरेट के बट्स और गंदगी भरे टेंट में रहने वाले बच्चों के बेड पर एक कंगारू भी सोता हुआ पाया गया था. यहां एक बच्चे को चलने फिरने में दिक्कत के साथ स्क्रीन की गंभीर बीमारी से पीड़ित है. दूसरे बच्चे को सुनने और देखने में प्रॉब्लम है, तो तीसरा बच्चा आंखों से अंधा था. यहां रहने वाली 9 साल की लड़की बहरी थी.

बच्चो की विकृती के कारण

इन बच्चों की विकृति का मुख्य कारण जानकर आप हैरान रह जाओगे. दरअसल यह बच्चे अस्वस्थ इसलिए पैदा हो रहे थे क्योंकि इनके मां बाप दोनों एक पेरेंट्स या फैमिली से पैदा हुए थे. विज्ञान के मायने में कहे तो इनके जीन का पैटर्न एक जैसा था, जिस कारण यह विकृत पैदा हो रहे थे. यहां की एक महिला सदस्य ने बताया कि 1 प्रवासी पुरुष और स्वीडस शख्स उनके बच्चों का पिता है. जब डीएनए टेस्ट करवाया गया तो उसमें अलग ही सच्चाई सामने आई.

पडोसी भी थे सच्चाई से दूर

जब अधिकारियों ने इस कैंप में रह रहे लोगों के पड़ोसियों से बात की तो, उन्हें इस बात की भनक तक नहीं थी. यहां रहने वाले किसान ने बताया कि हम देखते थे कि गाड़ी में भरकर काफी लोग और बच्चे यहां से आते जाते थे. लेकिन इसकी सच्चाई के बारे में हमें बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था. एक लोकल महिला ने बताया कि यहां क्या चल रहा है, इस बारे में बाहर किसी को कुछ पता नहीं था.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.