Loading...

खेल रत्न की अर्जी रिजेक्ट होने से काफी निराश हैं हरभजन सिंह, पंजाब सरकार से लगाई गुहार

0 1

हरभजन सिंह इस बात से बहुत ही निराश है कि राजीव गांधी खेल रत्न को लेकर उनके नाम की अर्जी रिजेक्ट हो गई। उन्होंने पंजाब सरकार से गुहार लगाई है कि इस मामले की जांच हो। हरभजन सिंह ने यूट्यूब पर एक वीडियो पोस्ट की और बताया कि मैंने दिनांक 20 को अपनी अर्जी तमाम दस्तावेजों के साथ पंजाब सरकार को सौंपी थी।

हालांकि मेरी अर्जी रिजेक्ट हो गई। इसका कारण बताया गया कि एप्लीकेशन भेजने में काफी ज्यादा देरी हो गई। मैं पंजाब सरकार से विनती करता हूं कि इस मामले की जांच हो और बताया जाए की अर्जी भेजने में कहां देरी हुई। मुझे इस बात की उम्मीद थी कि इस बार राजीव गांधी खेल रत्न जरूर मिलेगा। लेकिन ऐसा ना होने से मैं बहुत ज्यादा निराश हूं।

अर्जी रिजेक्ट होने के बाद अकाली दल ने पंजाब सरकार पर निशाना साधा। पूर्व मिनिस्टर और अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने बताया कि मामले की जांच होनी चाहिए और पता चलना चाहिए कि देरी कहां पर हुई। यदि इस मुद्दे को उठाने की जरूरत पड़ती है तो खुद कैप्टन अमरिंदर सिंह को केंद्र सरकार के पास जाना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि हरभजन सिंह के अलावा किसी और खिलाड़ी के साथ यदि ऐसा होता है तो उचित कदम उठाना चाहिए।

पंजाब सरकार की तरफ से हरभजन सिंह का नाम खेल रत्न देने की सिफारिश करते हुए भारत सरकार को सौंपा गया। लेकिन तकनीकी आधार पर उनकी अर्जी रिजेक्ट हो गई। पंजाब सरकार के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने इस बारे में जानकारी दी थी। हालांकि इस बारे में जानकारी की जा रही है कि क्यों उनकी अर्जी को रिजेक्ट किया गया। केंद्र सरकार की तरफ से यह कहा गया कि अर्जी भेजने में देरी हुई है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.