Loading...

RBI अगले महीने बैंक ग्राहकों को दे सकता है बड़ी खुशखबरी, घटा सकता है ATM चार्ज

0 14

रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा अब बैंक ग्राहकों को जल्द ही एक और राहत भरी खबर मिल सकती है. जी हां, दरअसल खबर आ रही है कि आरबीआई जल्द ही दूसरे बैंक के एटीएम से पैसा निकालने पर लगने वाला चार्ज घटा सकता है.

आपको बता दें कि हाल ही में NEFT और RTGS से दूसरे खाते में पैसे ट्रांसफर करने पर लगने वाले चार्ज को खत्म करने के बाद अब एटीएम चार्ज के संबंध में यह समीक्षा की गई है. दरअसल आरबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, जल्दी ही सेंट्रल बैंक इस पर कोई आखिरी फैसला ले सकता है.

आगामी महीने अगस्त में आ सकती है रिपोर्ट

दरअसल सूत्रों की मानें तो एटीएम चार्ज को पूरी तरह नहीं हटाया जाएगा बल्कि इसे घटाने पर विचार किया जा रहा है. बता दें कि एटीएम उपभोक्ताओं को राहत देने के समिति ने अपने कुछ सुझाव तैयार किए हैं. जल्द ही इसकी रिपोर्ट आरबीआई को सौंपी जाएगी.

Loading...

मालूम हो कि सूत्रों के अनुसार समिति ने इस आधार पर इंटरचेंज फीस स्ट्रक्चर की समीक्षा की है कि पिछले कुछ समय में एटीएम का इस्तेमाल कितना बढ़ा है. माना जा रहा है कि यह समिति अपनी पहली रिपोर्ट आने वाले अगस्त महीने में सौंप सकती है. दरअसल इस रिपोर्ट में समिति के प्रतिनिधि यह सुझाव देंगे कि चार्ज घटाया जाना चाहिए या नहीं और अगर घटाया जाए तो कितना घटाया जाना चाहिए.

जानिए क्या है इंटरचेंज फीस स्ट्रक्चर

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इंटरचेंज फीस स्ट्रक्चर के फीस स्ट्रक्चर से ही तय होता है कि दूसरे बैंक का एटीएम इस्तेमाल करने पर उपभोक्ता को कितना चार्ज चुकाना होगा. मालूम हो कि फिलहाल, दूसरे बैंक के एटीएम से ट्रांजेक्शन पर एक तय संख्या तक कोई चार्ज नहीं लिया जाता है. दरअसल इस सीमा के पार होने पर बैंक फीस वसूलते हैं. बता दें कि हर बैंक ने इसके लिए अपना स्ट्रक्चर तय किया हुआ है.

इतना लगता है चार्ज

आपको बता दें कि अगर ICICI बैंक की बात करें तो अभी मेट्रो शहरों में महीने की पहली 3 ट्रांजेक्शन पर कोई चार्ज नहीं लगता है. वहीं, दूसरे शहरों में 5 ट्रांजेक्शन तक फ्री हैं. हालांकि इसके बाद प्रति ट्रांजेक्शन 20 रुपए की फीस वसूली जाती है. वहीं नॉन-फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन पर यह 8.50 रुपए है.

SBI भी वसूलता है 20 रुपए

मालूम हो कि देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक यानी कि एसबीआई में 6 बड़े मेट्रो शहरों में महीने के 3 ट्रांजेक्शन मुफ्त होते हैं. दूसरी जगह पर महीने के पहले 5 ट्रांजेक्शन मुफ्त होते हैं. बता दें कि इसके बाद बैंक के द्वारा 20 रुपए की दर से ट्रांजेक्शन चार्ज लिया जाता है. वहीं, नॉन-फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन पर 8 रुपए वसूलता है. बता दें कि दोनों चार्ज में जीएसटी शामिल नहीं है, वो अलग से लगेगा.

जानिए कौन-कौन है समिति में शामिल

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस समिति में इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के सीईओ वीजी कनन, नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन के सीईओ दिलीप असबे, एसबीआई के सीजीएम गिरी कुमार नायर, एचडीएफसी बैंक के लाइबिलिटी प्रोडक्ट के ग्रुप हेड एस सम्पत कुमार, कन्फेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री के डायरेक्टर के श्रीनिवास और टाटा कम्युनिकेशंस पेमेंट सॉल्यूशंस के सीईओ संजीव पटेल शामिल हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.