Loading...

3 दिन की मासूम बच्ची के नैप्पी में घुस गया बिच्छू और फिर 7 बार उसे काटा, मां को नहीं थी कोई भी खबर

0 2,456

ब्राजील में एक महिला की असावधानी उसकी बच्ची की जान पर बन आई. इस महिला ने अपनी बच्ची को जो नेपि पहनाई उसमें बिच्छू था. बिच्छू ने इस 3 दिन की बच्ची को 7 बार काटा और फिर उसकी एम्बलिकल कॉड से चिपक गया. इतना सब हो जाने के बाद बच्ची के मुंह में झाग आ गए और सांस लेने में दिक्कत हुई तो महिलाओं उसे तुरंत अस्पताल लेकर गई. तब तक महिलाएं इस बात से अनजान थी कि कि उसकी बच्ची को बिच्छू ने काटा है, लेकिन जब डॉक्टरों ने इलाज के लिए उसके कपड़े खोलें तो उसकी नेपी में से बिच्छू निकला. डॉक्टरों को सारा माजरा समझने में देर नहीं लगी और उन्होंने उन्होंने तुरंत प्लास्टिक के छह एंटी-कॉर्टिकोस्टेरॉयड सीरम के छह इमरजेंसी इंजेक्शन लगा दिए तो बच्ची की जान बच पाई.

बिच्छू के काटने की बात से थी अनजान

यह घटना बहिया स्टेट के विटोरिया दा कॉन्क्विस्टा की रहने वाली फर्नान्डा की 3 दिन की बेटी सोफिया के साथ हुई. फर्नांडा ने अपनी बेटी को नहला कर उसे नेपी पहनाई. कुछ देर बाद ही फर्नान्डा ने देखा कि सोफिया के मुंह में से झाग निकल रहे है और उसे सांस लेने में भी परेशानी आ रही है. महिला को यह समझ नहीं आया लेकिन उसने अनुमान लगाया की कमजोरी के कारण ऐसा हो रहा है. फर्नान्डा तुरंत उसे डॉक्टर के पास ले गई. डॉक्टर ने जब चेक कब किया तो उन्हें अपच की समस्या लगी, लेकिन लगातार बच्ची की समस्या बढ़ती जा रही थी. उसकी धड़कन इतनी तेज हो गई थी कि लग रहा था वो अभी खत्म हो जाएगी. परंतु जब स्टाफ ने बच्ची का चेकअप करने के लिए कपड़े खोलें तो उसमें से बिच्छू निकला.

Loading...

बिच्छू देख सहम गई डॉक्टर

यूनिट में मौजूद डॉक्टर को जब बच्ची की बीमारी समझ नहीं आई तो उन्होंने तुरंत अपनी कार में सोफिया को बैठाया और म्युनिसिपल हॉस्पिटल आ गई. यहां पर डॉक्टर ने बच्ची का चेक अप करने के लिए उसकी नेपी खोली तो वो शॉक्ड रह गई. नेपी में बिच्छू देखकर डॉक्टर भी घबरा गई और जब इस बात का पता फर्नांडा को चला तो वो जोर जोर से रोने लगी. डॉक्टर ने गार्ड की मदद से तुरंत बिछु को हटाया और सोफिया को एंटी-कॉर्टिकोस्टेरॉयड सीरम के छह इमरजेंसी इंजेक्शन लगा दिए. बच्ची को 3 दिन तक इन्टेंसिव केयर में भर्ती रखकर फिर डिस्चार्ज कर दिया. अब सोफिया खतरे से बाहर है और पूरी तरह स्वस्थ है.

डॉक्टर इसे मान रहे चमत्कार

बहिया हेल्थ सेक्रेट्रिएट इन्फॉर्मेशन सेंटर के डायरेक्टर डेनियल रेबुओ ने बताया कि इतनी देर तक बच्ची को इलाज ना मिलने पर भी वो किस तरह जीवित रह गई है, ये मेडिकल साइंस के समझ से बाहर है. दरअसल 7 साल से बड़े उम्र वाले व्यक्तियों को अगर बिच्छू काटता है तो 2 घंटे में उनकी मौत हो सकती है. इतनी देर में जहर उनके खून में फैल जाता है जिस कारण दवा से कंट्रोल करना मुश्किल होता है. लेकिन बच्ची का इतनी देर तक जीवित रहना किसी चमत्कार से कम नहीं है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.