Loading...

BCCI ने दिल्ली के बाद अब इस शहर को दिया रणजी क्रिकेट टीम का दर्जा

0 5

लगभग 4 दशकों के बाद आखिरकार चंडीगढ़ को बीसीसीआई से बोर्ड के साथ संबंध किए जाने की अनुमति मिल गई. अब चंडीगढ़ के युवा खिलाड़ी बीसीसीआई के टूर्नामेंट में खेलते हुए नजर आएंगे. शुक्रवार को यूटीसीए के अध्यक्ष संजय टंडन ने बताया कि बीसीसीआई की मीटिंग में चंडीगढ़ को बोर्ड के साथ संबंध किए जाने की इजाजत मिल गई है. मुझे एक मैसेज मिला जिसमें यह लिखा था कि चंडीगढ़ को भी एक क्रिकेट प्लेइंग स्टेट का दर्जा मिला है, जिसे बीसीसीआई में शामिल किया गया है.

UTCA का गठन 1982 में हुआ था और काफी प्रयासों के बाद उसे बोर्ड में जगह मिली. बीसीसीआई ने इसी महीने की शुरुआत में कहा था कि चंडीगढ़ क्रिकेट एसोसिएशन(पंजा) और चंडीगढ़ क्रिकेट एसोसिएशन (हरियाणा) को जोड़कर UTCA में शामिल किया जाएगा, जिससे चंडीगढ़ का भी प्रतिनिधित्व किया जा सके.

सीसीए(पंजाब) की तरफ से इस मर्जर को अनुमति मिल गई थी, जबकि हरियाणा ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी. लेकिन बीसीसीआई के फैसले के बाद चंडीगढ़ के खिलाड़ी जो पहले राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने में सक्षम होने के लिए पंजाब या हरियाणा का प्रतिनिधित्व करने को मजबूर थे, अब अपने शहर का प्रतिनिधित्व कर पाएंगे. चंडीगढ़ की खुद की रणजी टीम होगी, जो बीसीसीआई के घरेलू टूर्नामेंटों में खेलते हुए नजर आएगी. दिल्ली के बाद यह दूसरी यूनियन टेरेटरी है, जिसे बीसीसीआई से एफिलिएशन मिला है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.