Loading...

अगर ATM ट्रांजैक्शन फेल हो जाए तो बैंक आपको देगा 100 रु रोज, क्या आप जानते हैं इस नियम के बारे में

0 18

आजकल टेक्नोलॉजी का जमाना है और इस टेक्नोलॉजी भरे जमाने में हर सर्विस सरल हो चली है. इसमें बैंकिंग सर्विस भी शामिल है. दरअसल टेक्नोलॉजी की वजह से हमारी बैंकिंग आसान हो गई है, लेकिन इसके बावजूद कई बार ग्राहकों को कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है.

जी हां, दरअसल कई बार ऐसा देखा जाता है कि बैंक कस्टमर किसी एटीएम से पैसे निकालने का प्रयास करता है, उसके खाते से पैसे कट भी जाते हैं, लेकिन पैसे निकलते नहीं हैं. दरअसल ऐसे में कस्टमर के पास इंतजार करने के अलावा कुछ नहीं होता. लेकिन, इससे जुड़ा नियम आपको बैंक से मुआवजा लेने का हकदार बनाता है.

जी हां, आपको बता दें कि आरबीआई ने इस मामले में एक खास तरह का नियम बनाया हुआ है. बता दें कि इस नियम के मुताबिक, जितने दिन में पैसे आएंगे उतने दिन के हिसाब बैंक आपको रोजाना मुआवजे के तौर पर 100 रुपए देगा.

जानिए क्या है उपाए

Loading...

मालूम हो कि एक कस्टमर के तौर पर सर्वप्रथम आपको अपने बैंक के पास इसकी शिकायत करनी चाहिए. दरअसल आपका ट्रांजेक्शन चाहे अपने बैंक के एटीएम पर फेल हुआ हो या दूसरे बैंक के एटीएम पर, आप अपने बैंक से शिकायत कर अपना पैसा वापस मांग सकते हैं. साथ ही, उस पर मुआवजा भी ले सकते हैं.

यह है आरबीआई का निर्देश

दरअसल चूंकि यह एक फेल्ड ट्रांज़ैक्शन है तो जाहिर है कि पैसा आपको नहीं मिला और अब ऐसे में यह पैसा आपको वापस आपके अकाउंट में मिलना चाहिए. बता दें कि इसके लिए आरबीआई ने एक समय सीमा भी तय कर रखी है.

जी हां, दरअसल मई 2011 में आरबीआई की ओर से जारी किए गए निर्देश के अनुसार, ऐसी शिकायत मिलने के 7 कार्यदिवसों यानी कि वर्किंग डेज के भीतर बैंक को उस कस्टमर के खाते में पैसे वापस कर देने होंगे. जानकारी के लिए बता दें कि मई 2011 के इस निर्देश के पहले यह अवधि 12 दिन थी.

जानिए आपको क्या करना होगा

बता दें कि बैंक से पेनल्टी पाने के लिए आपको ट्रांजेक्शन फेल के बाद 30 दिनों के अंदर शिकायत दर्ज करानी होगी.

मालूम हो कि आपको ट्रांजेक्शन की पर्ची या अकाउंट स्टेटमेंट के साथ अपनी शिकायत बैंक में दर्ज करानी होगी.

साथ ही आपको बैंक के अधिकृत कर्मचारी को अपने एटीएम कार्ड का डिटेल बताना होगा.

बता दें कि अगर 7 दिनों के अंदर आपका पैसा वापस नहीं आता तो आपको एनेक्शर-5 फॉर्म भरना होगा.

मालूम हो कि जिस दिन आप ये फॉर्म भरेंगे आपकी पेनल्टी उसी दिन से चालू हो जाएगी.

पैसे वापसी के साथ देना पड़ेगा जुर्माना भी

आपको बता दें कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का यह स्पष्ट निर्देश है कि बैंकों को जुर्माने की रकम ग्राहक के खाते में खुद डालनी होगी. जी हां, दरअसल इसके लिए ग्राहक की ओर से किसी प्रकार का कोई दावा ठोकने की आवश्यकता नहीं होगी. मालूम हो कि इसमें खास बात यह है कि जिस दिन फेल्ड ट्रांजेक्शन के पैसे वापस होंगे. उसी दिन जुर्माने की रकम भी अकाउंट में डालनी होगी.

100 रोजाना के हिसाब से बैंक देगा जुर्माना

मालूम हो कि नियम के मुताबिक, अगर बैंक शिकायत करने के 7 दिन के भीतर भुगतान नहीं करता तो हर दिन रुपए के हिसाब से जुर्माना ग्राहक को देना होगा. जी हां, दरअसल अगर बैंक आपका पैसा समय पर वापस नहीं करता तो आप बैंक से जुर्माना वसूलने के हकदार हैं.

30 दिन के अंदर करनी होगी शिकायत

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बैंक से पैसा या जुर्माना वसूलने का हक तभी आपको मिलेगा जब ट्रांजेक्शन के 30 दिन के भीतर आप शिकायत दर्ज करा दें. दरअसल अगर आप ट्रांजेक्शन के फेल होने पर 30 दिन के अंदर शिकायत दर्ज नहीं कराते तो आप जुर्माना वसूलने के हकदार नहीं होंगे.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.