Loading...

इस स्कीम का फायदा उठाने के लिए किसानों को 31 जुलाई तक करना होगा ये काम

0 16

उत्तरप्रदेश की योगी सरकार ने अपने यहां के किसानों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में फसल बीमा का लाभ उठाने की अपील की है. दरअसल ज्यादातर किसान इस आशंका में रहते हैं कि पता नहीं बीमा कंपनी विपरीत स्थितियों में उन्हें पैसा देगी या नहीं.

यही कारण है कि अब बीमा कंपनी ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि वो किन-किन हालातों में किसान को बीमा कवर देंगी. दरअसल अगर बीमा का लाभ लेना है कि किसानों को किसी आपदा के 12 घंटे के अंदर व्यक्तिगत रूप से बीमा कंपनी में जाकर फसल खराब होने का दावा पेश करना होगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आने वाली 31 जुलाई बीमा करवाने की अंतिम तारीख है. दरअसल कर्जदार और गैर कर्जदार दोनों किसान इसका फायदा उठा सकते हैं. मालूम हो कि इस साल यानी कि 2019 में सरकार के सहयोग से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एवं पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना को यूपी के सभी जिलों में चलाने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है.

Loading...

कुछ ऐसी स्थिति में ही मिलेगा बीमा का लाभ

आपको बता दें कि फसल की मध्य अवस्था तक प्रतिकूल मौसमी स्थितियों के कारण संभावित उपज सामान्यता: 50% कम होने की स्थिति में आपको उस रकम का 25% मिलेगा जितने का आपने बीमा करवाया है. दरअसल यह एक प्रकार की तात्कालिक सहायता होगी.

मालूम हो कि बुवाई से कटाई के बीच खड़ी फसलों को प्राकृतिक आपदाओं, रोगों व कीटों से हुए नुकसान की भरपाई.

बता दें कि खड़ी फसलों को स्थानीय आपदाओं, ओलावृष्टि, भू-स्खलन, बादल फटने, आकाशीय बिजली से हुए नुकसान की भरपाई.

इसके अलावा फसल कटाई के बाद अगले 14 दिन तक खेत में सुखाने के लिए रखी गई फसलों को बेमौसम चक्रवाती बारिश, ओलावृष्टि और आंधी से हुई क्षति की स्थिति में व्यक्तिगत आधार पर क्षति का आकलन कर बीमा कंपनी भरपाई करेगी.

वहीं प्रतिकूल मौसमी स्थितियों के कारण फसल की बुवाई न कर पाने पर भी लाभ मिलेगा.

इन फसलों का होगा बीमा

आपको बता दें कि जिन फसलों का बीमा होगा वो इस प्रकार हैं:

धान
मक्का
ज्वार
बाजरा
उरद
मूंग
मूंगफली
तिल
सोयाबीन
अरहर.

कर्जदार किसानों के लिए

आपको बता दें सरकारी बीमा कंपनी नेशनल इंश्यारेंस ने कहा है कि सभी किसान क्रेडिट कार्ड धारक और फसली कर्ज लेने वाले किसान अपने नजदीकी सरकारी, निजी, सहकारी बैंक या उसके कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं.

जो कर्जदार नहीं है उनके लिए

मालूम हो कि जिन किसानों ने खेती-किसानी के लिए किसी तरह का कर्ज नहीं ले रखा है वे जन सुविधा केंद्र या बीमा पोर्टल से सीधे फसल का बीमा करवा सकते हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.